इन्दौर । लोकसभा निर्वाचन 2019 के मद्देनजर आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में चुनाव प्रशिक्षक डॉ. आर.के. पाण्डे ने जिले के नगर निगम के सभी जोनल ऑफिसर्स, सभी नगर पंचायतों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी और जनपद पंचायत के अधिकारियों को आदर्श आचार संहिता के पालन करवाने का प्रशिक्षण दिया। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री कैलाश वानखेड़े विशेष रूप से मौजूद थे।
डॉ. पाण्डे ने इस अवसर पर कहा कि जिले में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए जिले में आदर्श आचार संहिता का कड़ाई से पालन कराना जरूरी है। जिले में आचार संहिता के साथ कोलाहल नियंत्रण अधिनियम, यातायाता अधिनियम, आबकारी अधिनियम तत्काल प्रभाव से लागू होगा है। चुनाव आयोग से आचार संहिता इस लिये जारी की है कि स्वतंत्र और निष्पक्ष ढ़ंग से चुनाव हो सकें। सभी राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों को समान अवसर मिले। किसी के साथ भेदभाव न हो। इसी प्रकार उन्होने कहा कि मतदान के दिन मतदान शांतिपूर्ण और सुव्यवस्थित कराने के लिए यह जरूरी है कि किसी भी मतदाता को मतदान करने में कोई परेशानी न हो। निर्वाचन कर्तव्य पर लगे हुए अधिकारी मतदाताओं को सहयोग करें। अभ्यर्थी अपने प्राधिकृत कार्यकर्ता को उपयुक्त पहचान पत्र दें। राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों द्वारा मतदान केन्द्र के निकट कैम्पों के नजदीक अनावश्यक भीड इक्ट्ठी न हो, जिससे अभ्यर्थियों और राजनैतिक दलों के कार्यकर्ताओं और शुभचिंतकों के बीच आपस में तनाव व मुकाबला न होने पाये। आम जन से अपेक्षा है कि मतदान के दिन वाहन चलाने पर लगाये जाने वाले निबंधनों का पालन करने में प्राधिकारियों के साथ सहयोग करें और वाहनों के लिए परमिट प्राप्त कर लें। वाहनों पर ऐसा लगा दें कि परमिट साफ-साफ दिखाई दे।   
डॉ. पाण्डे ने कहा कि सत्ताधारी दल को चाहे वे केन्द्र में हो या संबंधित राज्य या राज्यों में हो यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यह शिकायत करने का कोई मौका न दिया जाये कि उस दल ने अपने निर्वाचन अभियान के प्रयोजनों के लिए अपने सहकारी पद का प्रयोग किया है और विशेष रूप से मंत्रियों को अपने शासकीय दौरों को निर्वाचन से संबंधित प्रचार के साथ नहीं जोड़ना चाहिए और निर्वाचन के दौरान प्रचार करते हुए शासकीय मशीनरी अथवा कार्मिकों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। सरकारी विमानों, गाड़ियों सहित सरकारी वाहनों, मशीनरी और कर्मिकों का सत्ताधारी दल के हित बढ़ावा देने के लिए प्रयोग नहीं होना चाहिए।