नई दिल्ली:  

भारत ही नहीं अधिकतर देश इस बात से सहमत हैं कि मौलाना मसूद अजहर पाकिस्तान पौषित एक खतरनाक आतंकवादी है और जिसने पाकिस्तान में शरण ले रखी हैI अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने इस आतंकवादी को संयुक्त राष्ट्र के जरिए वैश्विक आतंकी घोषित करने की भरपूर कोशिश की लेकन चीन ने इसमें अपने वीटो का इस्तेमाल कर अडंगा लगा दियाI इसके बाद विपक्ष के कई नेताओं ने मोदी सरकार की कार्रवाई पर सवाल उठाए. जिसके जवाब में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एक के बाद एक कई ट्वीट करके इस पर अपना बयान जारी किया हैI

विदेश मंत्री ने ट्वीट की अपनी इस सीरीज के जरिए उन लोगों की बोलती बंद करने की कोशिश की है, जो मोदी सरकार की विदेश नीति पर सवाल उठा रहे हैं. सुषमा ने कहा, 'मैं यह सभी फैक्ट इसलिए सामने रख रही हूं, क्योंकि कुछ नेताओं का कहना है कि मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र से अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित नहीं करा पाना मोदी सरकार की नाकामी हैI जो लोग ये आरोप लगा रहे हैं वो एक बार साल 2009 की स्थिति देख लें, जब भारत ने यूएन में ऐसी ही कोशिश की थी.' सुषमा ने बताया कि साल 2009 में भारत अकेला था, जो मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगवाना चाहता था, जबकि 2019 में हमें पूरे विश्व का साथ मिला हैI

सुषमा ने अपने ट्वीट में कहा- मैं मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए जाने को लेकर कुछ फैक्ट आपके सामने रखना चाहती हूंI आज तक चार बार ऐसी कोशिश हो चुकी है और अभी तक इस खूंखार आतंकी को संयुक्त राष्ट्र से अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने में सफलता नहीं मिल पायी हैI

सुषमा ने कहा, इससे पहले साल 2009 में जब भारत में यूपीए सरकार थी, उस वक्त भी मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने की कोशिश हुई थी, लेकिन उस वक्त भारत ने अकेले ही ऐसा किया थाI2016 में भारत ने यह प्रस्ताव रखा था अमेरिका, फ्रांस व ब्रिटेन इसके सह प्रस्तावक थे.साल 2017 में अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का प्रस्ताव रखा थाI

सुषमा ने कहा, साल 2019 के प्रस्ताव में 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा समिति में से 14 ने इसका समर्थन कियाIइसके अलावा भी ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इटली और जापान जैसे देशों ने भी मसूद अजहर को आतंकी घोषित कराने के लिए अपना सर्थन दियाI