हाईकोर्ट में भोपाल के हुजूर विधानसभा से भाजपा विधायक रामेश्वरशर्मा को चुनौती दी गई है। जस्टिस एके श्रीवास्तव की एकल पीठ ने विधायक रामेश्वर शर्मा को नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब देने का निर्देश दिया है। एकल पीठ ने हुजूर विधानसभा चुनाव में उपयोग की गई ईवीएम को लोकसभा चुनाव के लिए मुक्त करने का भी आदेश दिया है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पराजित प्रत्याशी नरेश ज्ञानचंदानी की ओर से दायद चुनाव याचिका में कहा गया है कि भाजपा प्रत्याशी रामेश्वर शर्मा ने चुनाव में अनुचित साधनों का प्रयोग किया।  चुनाव के एक दिन पहले रामशवर शर्मा ने एक ऑडियो जारी किया, जिसमं हिंदी और सिंधी को लेकर अनुचित टिप्पणी क गई थी। इस आडियो का प्रभाव उस चुनाव पर पड़ा। इसकी वजह से उनकी हार हो गई। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता अंकित सक्सेन ने तर्क दिया कि जनप्रतिनिधित्व अधिनियम में सपष्ट कहा गया है कि चुनाव मं धर्म या अन्य साधनों का सहारा नहीं लिया जाना चाहिए। प्रारंभिक चुनाव के बाद एकल पीठ ने भाजपा विधायक को नेटिस जारी कर जवाब तलब किया है। वंही चुनाव आयोग की ओर से अधिवक्ता सिद्धार्थ सेठ ने आवेदन दायर कर कहा कि चुनाव याचिका में ईवीएम पर किसी भी प्रकार का विवाद नहीं है7 इसलिए ईवीएम को लोकसभा चुनाव के लिए मुक्त किया जाए। सुनवाई के बाद एकल पीठ ने हुजूर विधानसभा चुनाव में उपयोग की गई ईवीएम को लोकसभा चुनाव के लिए मुक्त करने का आदेश दिया है।