भोपाल/ नई दिल्ली। विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत के आम चुनाव का शंखनाद हो गया। 17वीं लोकसभा के गठन के लिए देश के 29 राज्यों व 7 केंद्र शासित प्रदेशों में 11 अप्रैल से 19 मई के बीच सात चरणों में मतदान होगा। इसके साथ ही चार राज्यों आंध्र, ओडिशा, अरुणाचल व सिक्किम के विधानसभा चुनाव भी कराए जाएंगे।

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा हालात को देखते हुए अभी चुनाव का फैसला नहीं किया गया है। लोकसभा व चारों राज्यों के विस चुनावों का फैसला 23 मई को आएगा। रविवार शाम पांच बजे मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा द्वारा लोकसभा चुनाव व चार राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीखों के एलान के साथ ही देश में आचार संहिता लागू हो गई और 42 दिनी चुनावी महासमर शुरू हो गया।

इस बार करीब 90 करोड़ लोगों को मतदान का अवसर मिलेगा, जबकि 2014 में 81.45 करोड़ वोटर थे, जिनमें से 55 करोड़ ने वोट डाले थे। मौजूदा 16वीं लोकसभा का कार्यकाल 3 जून को समाप्त होगा। चुनाव आयोग 27 मई तक पूरी प्रक्रिया पूर्ण करना चाहता है।

29 अप्रैल 6 लोकसभा क्षेत्र - सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट और छिंदवाड़ा।

6 मई 7 लोकसभा क्षेत्र - टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद, बैतूल।

12 मई 8 लोकसभा क्षेत्र - मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल और राजगढ़।

19 मई 8 लोकसभा क्षेत्र - देवास, उज्जैन, धार, मंदसौर, रतलाम, इंदौर, खरगोन, खंडवा।

मप्र में 29 अप्रैल को छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव के लिए भी होगा मतदान।