लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान होने में अब महज कुछ घंटे शेष हैं. इससे पहले लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चुनावी रैली में बड़ी घोषणा की है. केंद्रपारा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी बीजेडी लोकसभा चुनाव में महिलाओं को 33 फीसदी सीटें देगी.
लोकसभा चुनाव 2019: पूर्व BJD नेता बैजयंत जय पांडा BJP में हुए शामिल, ओडिशा में पार्टी को मिलेगी मजबूती

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रपाड़ा में एक चुनावी रैली में ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने बीजेडी पार्टी के लिए लोकसभा सीटों के आवंटन में महिलाओं के लिए 33 फीसदी कोटा की घोषणा की. इसका मतलब हुआ कि बीजेडी की पूरी सीट में से 33 फीसदी सीटें महिलाओं को दी जाएगी.

इससे पहले ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद बिसवाल की बेटी एवं कांग्रेस नेता सुनीता बिसवाल शनिवार को सत्तारूढ़ बीजद में शामिल हो गईं. इससे महज दो दिन पहले ही कांग्रेस ने घोषणा की थी कि पार्टी आगामी चुनावों के लिए ‘एक परिवार, एक टिकट' की नीति का सख्ती से पालन करेगी. सुंदरगढ़ जिला कांग्रेस की पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष सुनीता बिसवाल मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की मौजूदगी में अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ बीजद में शामिल हुईं.

नवीन पटनायक ने कहा, “मैं खुश हूं कि पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद बिसवाल की बेटी श्रीमती सुनीता बिसवाल अपने समर्थकों के साथ हमारी पार्टी में शामिल हुईं. मैं उन सभी का पार्टी में स्वागत करता हूं. मुझे यकीन है कि वे बीजद को और मजबूत बनाएंगे.” सुनीता ने कहा कि उन्होंने अपने ससुराल पक्ष के लोगों से सलाह-मश्विरा करने के बाद पार्टी में शामिल होने का फैसला किया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “क्योंकि मेरे पिता कांग्रेस में हैं, मैं पार्टी छोड़ने के लिए तैयार नहीं थी.”    

सुनीता ने कहा, “मैं महिलाओं, किसानों एवं युवाओं के लिए नवीन पटनायक के कल्याणकारी कार्यक्रमों से प्रभावित हूं. मुझे उम्मीद है कि मैं सुंदरगढ़ के लोगों के लिए कुछ कर पाऊंगी. उन्होंने कहा कि वह बिना किसी शर्त के बीजद में शामिल हुई हैं और टिकट को लेकर पार्टी प्रमुख का जो कुछ भी फैसला होगा उसे स्वीकार करेंगी. बेटी के निर्णय पर प्रतिक्रिया देते हुए हेमानंद बिसवाल ने कहा, “मेरी बेटी अपने फैसले लेने के लिहाज से काफी बड़ी हो चुकी हैं. मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है. मैं कांग्रेस में ही बना रहूंगा.'

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान होने में अब महज कुछ घंटे शेष हैं. इससे पहले लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चुनावी रैली में बड़ी घोषणा की है. केंद्रपारा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी बीजेडी लोकसभा चुनाव में महिलाओं को 33 फीसदी सीटें देगी.
लोकसभा चुनाव 2019: पूर्व BJD नेता बैजयंत जय पांडा BJP में हुए शामिल, ओडिशा में पार्टी को मिलेगी मजबूती

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रपाड़ा में एक चुनावी रैली में ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने बीजेडी पार्टी के लिए लोकसभा सीटों के आवंटन में महिलाओं के लिए 33 फीसदी कोटा की घोषणा की. इसका मतलब हुआ कि बीजेडी की पूरी सीट में से 33 फीसदी सीटें महिलाओं को दी जाएगी.

इससे पहले ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद बिसवाल की बेटी एवं कांग्रेस नेता सुनीता बिसवाल शनिवार को सत्तारूढ़ बीजद में शामिल हो गईं. इससे महज दो दिन पहले ही कांग्रेस ने घोषणा की थी कि पार्टी आगामी चुनावों के लिए ‘एक परिवार, एक टिकट' की नीति का सख्ती से पालन करेगी. सुंदरगढ़ जिला कांग्रेस की पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष सुनीता बिसवाल मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की मौजूदगी में अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ बीजद में शामिल हुईं.

नवीन पटनायक ने कहा, “मैं खुश हूं कि पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद बिसवाल की बेटी श्रीमती सुनीता बिसवाल अपने समर्थकों के साथ हमारी पार्टी में शामिल हुईं. मैं उन सभी का पार्टी में स्वागत करता हूं. मुझे यकीन है कि वे बीजद को और मजबूत बनाएंगे.” सुनीता ने कहा कि उन्होंने अपने ससुराल पक्ष के लोगों से सलाह-मश्विरा करने के बाद पार्टी में शामिल होने का फैसला किया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “क्योंकि मेरे पिता कांग्रेस में हैं, मैं पार्टी छोड़ने के लिए तैयार नहीं थी.”    

सुनीता ने कहा, “मैं महिलाओं, किसानों एवं युवाओं के लिए नवीन पटनायक के कल्याणकारी कार्यक्रमों से प्रभावित हूं. मुझे उम्मीद है कि मैं सुंदरगढ़ के लोगों के लिए कुछ कर पाऊंगी. उन्होंने कहा कि वह बिना किसी शर्त के बीजद में शामिल हुई हैं और टिकट को लेकर पार्टी प्रमुख का जो कुछ भी फैसला होगा उसे स्वीकार करेंगी. बेटी के निर्णय पर प्रतिक्रिया देते हुए हेमानंद बिसवाल ने कहा, “मेरी बेटी अपने फैसले लेने के लिहाज से काफी बड़ी हो चुकी हैं. मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है. मैं कांग्रेस में ही बना रहूंगा.'