जबलपुर। एक पटवारी ने नर्मदा नदी में कूदकर अपनी जान दे दी। इसकी जानकारी उस वक्त लगी जब परिजन तलाशते हुए तिलवारा घाट पहुंचे। उन्होंने देखा कि बेटी की बाइक वहां खड़ी है। घाट पर उसका बैग रखा है, लेकिन वह गायब है। तत्काल पुलिस को खबर दी गई। जिसके बाद गोताखारों की मदद से शव को बाहर निकाला गया। मौके से पुलिस को मृतक द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने कुछ लोगों द्वारा प्रताड़ित किए जाने की बात लिखी है। हालाकि अभी पुलिस सुसाइड नोट का खुलासा नहीं कर रही है। जांच के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि पटवारी ने क्यों खुदकुशी की है।
    पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार सिंचाई विभाग में पदस्थ उपयंत्री प्रकाशचंद्र स्वर्णकार निवासी बरगी हिल्स का बेटा शुभम उम्र २८ वर्ष अनूपपुर की जैतहरी तहसील में पटवारी के पद पर पदस्थ है। शुभम रविवार को सुबह घर आया, दिन भर घर में रहने के बाद शाम ७.३० बजे के लगभग अपनी मोटर साइकल से घूमने का कहकर निकला और तिलवारा घाट जाकर नर्मदा नदी में कूदकर जान दे दी। इधर रात १० बजे तक शुभम घर नहीं लौटा तो परिजन चिंतित हो गए।
घाट पर मिली बाइक और कपड़े ....
    परिजन रात को ही तलाश करते हुए तिलवारा घाट पहुंचे तो वहां पर शुभम की पल्सर मोटर सायकिल, कपडे एवं बैग मिला, आसपास के लोगों से पूछताछ की लेकिन किसी ने कुछ भी नहीं बताया। तत्काल पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने होमगार्ड के गोताखोर दल से शुभम की तलाश शुरु करा दी, कुछ देर बाद गोताखोर दल ने शुभम का शव पानी से बरामद कर लिया।
बैग से मिला सुसाइड नोट .....
    पुलिस को जांच के दौरान शुभम के बैग से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमें शुभम ने प्रताड़ित किए जाने की बात लिखी है। पुलिस ने सुसाइड नोट बरामद कर मामले की जांच शुरू कर दी है। अभी सुसाइड नोट में क्या लिखा है यह पुलिस नहीं बता पा रही है। पुलिस अधिकारियों की दलील है कि जांच के बाद ही सारी चीजों का खुलासा होगा।