इंदौर। शहर में दूसरे आईटी पार्क 'अतुल्य' का लोकार्पण शुक्रवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने किया। समारोह में देर से पहुंचे पटवारी ने महाजन से मंच से माफी मांगी तो ताई ने पटवारी के उच्च शिक्षा मंत्रालय संभालने पर खुशी भी जता दी। राजनीतिक हस्तियों के बीच बुजुर्ग मिश्रीलाल ने सबका ध्यान खींचा। आईटी पार्क का फीता कटने के साथ ही 24 साल बाद मिश्रीलाल ने जूते पहने। इसी समारोह में एकेवीएन को नया नाम भी मिला।

50 करोड़ की लागत से क्रिस्टल आईटी पार्क के पास नया आईटी पार्क 'अतुल्य' बनकर तैयार हुआ है। लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि के तौर मौजूद सांसद के पहुंचने के करीब 15 मिनट बाद पटवारी पहुंचे। माइक संभालने के बाद पटवारी ने कहा कि मैं अंतरात्मा से क्षमा चाहता हूं, क्योंकि लेट आया हूं। ताई तो 30 साल से ऐसे समारोह में अतिथि बन रही हैं, लेकिन उनके साथ अतिथि बनने का मौका मुझे पहली बार मिला है।
इस बीच देश में रोजगार की स्थिति पर चिंता जताते हुए पटवारी ने कहा कि चीन 24 घंटे में 50 हजार लोगों को रोजगार देता है, हमारे यहां सिर्फ 500 लोगों को मिल पाता है। सरकारों के लिए रोजगार चुनौती भी है और चिंता भी। आईटी इंडस्ट्री में उत्तर-दक्षिण से ज्यादा मध्य को मिलना चाहिए॥ इसके लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ खासे प्रयास भी कर रहे हैं।

पटवारी को जवाब देते हुए सांसद महाजन ने मंच से कहा कि उद्योगपति को उद्योगपति ही रहने दो, किसी गुट में न डालें। प्रजातंत्र में आना-जाना तो चलता रहता है और यह चलते रहना भी चाहिए। सांसद ने पटवारी से सीधे कहा कि 'जीतू बेटा, मुझे बहुत आनंद हुआ जब तुम्हें उच्च शिक्षा मंत्रालय मिला। तुम मूल रूप से गांव के हो और किसान। किसान का बेटा गांव में शिक्षा के महत्व को ज्यादा अच्छे से समझा पाएगा।' सांसद ने एकेवीएन एमडी कुमार पुरुषोत्तम की तारीफ करते हुए कहा कि यह इंदौर का भाग्य है कि हमें जो भी अधिकारी मिलता है, वह फुर्ती से काम करता है।

एकेवीएन हुआ एमपीआईडीसी

अतुल्य के लोकार्पण समारोह में औद्योगिक केंद्र विकास निगम (एकेवीएन) का बदला नाम भी जाहिर किया गया। एकेवीएन अब मप्र इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एमपीआईडीसी) का क्षेत्रीय कार्यालय कहा जाएगा। समारोह के दौरान रोबोट्रॉनिक्स कंपनी द्वारा निर्मित रोबोट ने मंच पर मौजूद अतिथियों को पुष्पगुच्छ भेंट किए। मंच पर औद्योगिक संगठन एआईएमपी के अध्यक्ष आलोक दवे और पीथमपुर औद्योगिक संगठन के अध्यक्ष गौतम कोठारी के साथ शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल को भी जगह दी गई।

मिश्रीलाल की कहानी

एमपीआईडीसी के निदेशक कुमार पुरुषोत्तम ने लोकार्पण समारोह के मंच से एकेवीएन के सेवानिवृत्त कर्मचारी मिश्रीलाल को अतिथियों के हाथों जूते की जोड़ी भेंट करवाई। मंच पर ही मिश्रीलाल ने जूते पहने और अतिथियों के साथ बैठे। कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि विभाग में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के तौर पर काम करते हुए मिश्रीलाल ने 1994 में शपथ ली थी कि तब ही जूते-चप्पल पहनूंगा जब विभाग का दफ्तर अपने भवन में होगा। इस बीच मिश्रीलाल रिटायर हो गए, लेकिन नंगे पैर ही रहे। नए आईटी पार्क के साथ अब विभाग को अपना दफ्तर भी मिल गया, लिहाजा मिश्रीलाल जूते पहन रहे हैं।
महाजन ने कहा कि नंगे पैर रहने की शपथ अपने आप में बड़ा निर्णय होता है। जब भी पैरों में पत्थर चुभते हैं तो व्यक्ति को अधूरे संकल्प की याद दिलाते हैं।