जबलपुर। लार्डगंज थाना परिसर स्थित पुलिस आवास में रहने वाले प्रधान आरक्षक मनोज मिश्रा के बेटे ने अज्ञात कारणों से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बेटा घर से जिम जाने का कहकर निकला था। लेकिन वह रात तक घर नहीं पहुंचा। परिजनों ने तलाश शुरू की तब भी उसका कहीं सुराग नहीं लगा। देर रात परिजन भूलन गढ़ा स्थित अपने दूसरे घर पहुंचे। जहां देखा तो उनका बेटा फंदे पर झूल रहा था। युवक ने किन कारणों से फांसी लगाई इसका खुलासा नहीं हो सका है। फिलहाल पुलिस ने शव को पीएम के लिए भिजवाते हुए जांच शुरू कर दी है।
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार बेलबाग थाना में पदस्थ प्रधान आरक्षक मनोज मिश्रा का बेटा पुष्पेश उम्र २१ वर्ष बी फार्मा की पढ़ाई कर रहा था, जो बीती शाम ७.३० बजे के लगभग घर से जिम जाने के लिए कहकर निकला था। इसके बाद उसने अपने पुराने घर पहुंचकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। रात ११.३० बजे तक जब बेटा घर नहीं आया तो परिजन चिंतित हो गए, उन्होंने रिश्तेदारों से लेकर दोस्तों के घर तक जाकर पूछताछ की, लेकिन पुष्पेश का कहीं पता नहीं चल सका। इसके बाद रात करीब डेढ़ बजे के लगभग परिजन तलाश करते हुए भूलन स्थित घर पहुंचे तो देखा कि अंदर से दरवाजा बंद है, किसी तरह दरवाजा तोड़कर अंदर गए तो चीख पड़े, उनका बेटा पुष्पेश फांसी के फंदे पर झूल रहा था।
पीएम के लिए भेजा शव .......
मौके पर पहुंची यादव कालोनी चौकी पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मर्ग कायम कर लिया है। पुलिस को पूछताछ में परिजनों ने बताया कि घर में ऐसी कोई बात नहीं हुई है। जिससे वह आत्महत्या जैसा कदम उठाए। बीफार्मा की पढ़ाई कर रहे पुष्पेश के मामले में पुलिस अब उसकी मोबाइल फोन की कॉल डिटेल निकालने की तैयारी में है ताकि आत्महत्या के कारणों का खुलासा हो सके। पुलिस को घटना स्थल की जांच के दौरान कोई सुसाइड नोट या फिर अन्य कोई चीज नहीं मिली है।