भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ एक्शन मोड में आ गए हैं। एक बैठक में कमलनाथ ने कहा कि मेरे कार्यकाल में चाहे आईएएस हो, आईपीएस हो, अन्य कोई अफसर हो या पार्टी को कोई नेता हो जो गड़बड़ करेगा उसे घर बैठाने में मुझे देर नहीं लगेगी। नाथ ने पार्टी की गुटबाजी पर भी गुस्सा जाहिर किया। नाथ ने कहा कि कार्यकर्ता पूरे मन से पार्टी के लिए कार्य करें। चुनाव कांग्रेस, प्रदेश और देश के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए सब यह ध्यान रखे की गुटबाजी भोपाल से लेकर दिल्ली तक बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
अफसरों को प्रशिक्षण देंगे मुंख्यमंत्री
जनता के हित में कैसे तेजी से कार्य किये जाएं इसके लिए मुख्यमंत्री अफसरों को ट्रेनिंग देंगे। वे 23 फरवरी को प्रदेश के आईजी,डीआईजी और पुलिस अधीक्षकों के साथ प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर एक मैराथन बैठक करेंगे। 27 फरवरी को कलेक्टर कमिश्नरों के साथ मैराथन बैठक कर विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन और वचन पत्र पर हुए काम की समीक्षा के साथ काम में गति लाने के लिए अफसरों को निर्देशित करेंगे।

मंत्रियों को भी देंगे सीख
27 फरवरी को ही मुख्यमंत्री कमलनाथ और सुशासन एवं नीति विश्लेषण स्कूल के विशेषज्ञ प्रदेश के मंत्रियों को विभागीय कामकाज और अफसरों से काम लेने के तौर-तरीके बताएंगे।

्रनवगठित गुड गवर्नेंस कन्सल्टेटिव काउंसिल (सुशासन परामर्शदात्री परिषद) पहला आयोजन करेगी। इसमें सभी मंत्री और आला अफसर शामिल होंगे। कांग्रेस के वचनपत्र को सामने रख कर होने वाले इस मंथन को मिनिस्टर्स ओरिएंटेशन नाम दिया गया है। सरकार गठन के बाद बीते डेढ़ महीने में मुख्यमंत्री तक यह फीडबैक पहुंचा है कि उनकी कैबिनेट के ज्यादातर मंत्री नए होने के कारण कामकाज में उन्हें दिक्कत आ रही है। 

ओले-बारिश का मुआवजा मिलेगा
कल मंदसौर जिले में व प्रदेश में कुछ अन्य स्थानों पर ओले ओर बारिश से फसलो को नुकसान हुआ। किसान भाई चिंता ना करे, सरकार आपके साथ है। सर्वे करवाकर मुआवज़ा दिया जायेगा।