रायपुर। रायपुर रेलवे मंडल स्थित रायपुर रेलवे स्टेशन चोरों के लिए सबसे मुफीद स्थान बन गया है। यात्रियों को चोर आसानी से अपना शिकार बना रहे हैं। चोरी की वारदात की भनक न तो रेलवे सुरक्षा विभाग को और न ही जीआरपी को लग रही है। इसका जीता-जागता उदाहरण है रायपुर रेलवे स्टेशन और रायपुर के आसपास ट्रेनों में पिछले एक साल में 320 चोरी की घटनाएं घटी हैं, जिसमें जीआरपी को महज 30 प्रतिशत मामले का निराकरण करने में सफल हुई है। बाकी के 70 प्रतिशत मामले पेंडिग हैं। इस वजह से स्टेशन के चोरों के हौसले बुलंद हैं। चोर एसी बोगी को अपना निशाना बना रहे हैं। जीआरपी के अधिकारी का कहना है कि गैंग बाहर का है, जो चोरी की घटना को अंजाम दे रहा है। जीआरपी मामले की जांच कर रही है।

ज्ञात हो कि मुंबई-हावड़ा मार्ग पर स्थित रायपुर रेलवे स्टेशन से एक दिन में करीब 70 हजार यात्री सफर करते हैं। रायपुर रेलवे स्टेशन में अक्सर चोरी, पॉकेटमारी, उठाईगिरी व मारपीट जैसे घटनाएं होती रहती हैं। इसके साथ ही रायपुर से आने वाली ट्रेन में भी चोरी की घटनाएं हो रही हैं। रायपुर आने वाली ट्रेनों में पिछले छह दिनों में चार ट्रेनों में चोरों ने चोरी की वारदात को अंजाम देकर लाखों के सोने-चांदी के जेवरात पार कर दिए हैं। जीआरपी को अभी तक चोरों के बारे में किसी प्रकार का सुराग नहीं मिला है। जीआरपी अपराध दर्जकर मामले को ठंडे बस्ते में डाल देता है। जिससे न तो मामले का निराकरण हो रहा है और न ही आरोपी पकड़े जा रहे हैं।
जीआरपी खंगाल रही सीसीटीवी फुटेज

रायपुर रेलवे स्टेशन में यात्रियों की सुरक्षा के लिए तीन दर्जन सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिसमें स्टेशन के भीतर में होने वाली घटनाएं रिकॉर्ड होती रहती हैं और यात्रियों की शिकायत पर आरपीएफ सीसीटीवी कैमरे की जांच कर आरोपियों तक पहुंचती है। वहीं स्टेशन के आस-पास होने वाली घटनाओं का रिकॉर्ड पुलिस के पास नहीं होता है। इस कारण आरोपी अपनी वारदात को अंजाम देकर आसानी से फरार हो रहे हैं और पुलिस सिर्फ सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है।

महंगे सामान पर ही निशाना

चोरों ने अधिकतर चोरी एसी कोच में की है। चोरों का पता है कि एसी कोच में सफर करने वालों के पास अक्सर कीमती सामान होता है। इस वजह से एसी कोच की टिकट करवाते हैं। कई चोरियां ऐसी भी हैं, जिनमें सूटकेस और बैग बर्थ से बंधे थे, इसके बावजूद वे चोरी हो गए। बुधवार को समता एक्सप्रेस के एसी कोच में ग्वालियर से रायपुर आ रहे यात्री का सामान चोरी हो गया। ठीक इसी तरह 28 जनवरी की दोपहर 3.30 बजे सरोना में पुरी रायपुर एक्सप्रेस धीमी हुई तो एसी बोगी में सवार युवती का हार चोरी हो गया है। इनमें किसी भी मामले में पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली है।

शासी गैंग दे रहा चोरी की घटनाओं को अंजाम

ट्रेनों के एसी बोगी में हो रही चोरी की घटना को हरियाणा का शासी गैंग के अंजाम देने का अनुमान लगाया जा रहा है। जीआरपी के अधिकारी ने बताया कि शासी गैंग एसी के यात्रियों को अपना निशाना बनाते है। इस गैंग में चार से पांच लोग रहते हैं। गैंग का काम है कि यात्री को वह आसानी से अपने झांसे में लेते हैं। उसके बाद उनका सामान लेकर आसानी से फरार हो जाते हैं।

ट्रेनों में हो रही चोरी के मामले में सीसीटीवी फुटेज की जांच जा रही है। चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले हरियाणा के शासी गैंग के लोग हैं। आरोपियों को पकड़ने के लिए टीम गठित की गई है, जल्द आरोपी गिरफ्तार होंगे। - एलएस राजपूत, प्रभारी जीआरपी, रायपुर