इंदौर। मेरे पैदा होने के पहले ही यह तय हो गया था कि मैं आर्टिस्ट बनूंगी, क्योंकि मेरी मां ने सोच रखा था कि वे अपने बच्चे को कलाकार ही बनाएंगी। इसके लिए उन्होंने बहुत मेहनत की। बचपन से ही मेरी मां मुझे समर वेकेशन पर मुंबई लेकर जाती थीं। एक बार जब मैं बहुत छोटी थी तो एक शॉपिंग मॉल में एकता कपूर ने मुझे देखा और मेरी मां से कहा कि 'आपकी बेटी तो चेकबुक है, आप अमाउंट भरो और अपनी बेटी मेरे साथ छोड़ दो'। दरअसल वे मुझे उनके सीरियल में रोल ऑफर कर रही थीं। उसी समय मेरे लिए एक्टिंग लाइन के दरवाजे खुल गए थे।

यह कहना है कई डेली सोप्स में अहम किरदार निभा चुकी इंदौर की रहने वाली गरिमा जैन का। गरिमा इन दिनों रिश्ते चैनल के शो नवरंग में दिखाई दे रही हैं। एक्टिंग के साथ गरिमा कथक और सिंगिंग में भी कई उपलब्धियां हासिल कर चुकी हैं। कथक में तो उनके नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है।
एक निजी आयोजन में अपने शहर आई गरिमा ने बताया कि उन्होंने बहुत कम उम्र में ही तय कर लिया था कि उन्हें भविष्य में किस दिशा में जाना है। पढ़ाई के साथ-साथ नृत्य आदि के स्थानीय कार्यक्रमों में हिस्सा लेती थीं। जब स्कूल पूरा हुआ तो फर्स्ट ईयर से मुंबई का रुख कर लिया। हालांकि इस दौरान पढ़ाई भी जारी रखी। गरिमा बताती हैं कि स्कूल के समय में ही मैं काफी फेमस हो गई थी। मेरी मां सिंगल पैरेंट हैं और उन्होंने मेरे करियर के लिए बहुत त्याग किया है। इसलिए मैंने फ्रेंड्स बनाने और मस्ती करने के बजाय अपने काम को ही सीरियस लिया। मुंबई भी गई तो वहां ज्यादा दोस्त नहीं बनाए।

फिल्मों में ऑफर मिला तो करूंगी काम

गरिमा ने कहा कि जब टीवी सीरियल से नाम मिला तो कई लोगों ने फिल्मों में जाने का कहा। मैं मेरी हाइट को लेकर थोड़ी डाउट में थी, क्योंकि मेरी हाइट थोड़ी कम है और इस कारण झिझकती थी। हालांकि अब बॉलीवुड में जिस तरह का माहौल है मैं ऑफर मिलने पर जरूर काम करूंगी। जब इस इंडस्ट्री को करीब से जाना तो पता चला कि यहां पर हाइट या किसी और चीज से ज्यादा आपका टैलेंट अहम होता है। गरिमा का सिंगिंग से भी प्यार अभी भी बरकरार है और वे इसके शोज का हिस्सा बनती रहती हैं।