धरना खत्म करने का ऐलान करते हुए ममता ने कहा कि पीएम मोदी सब पर कब्जा करना चाहते हैं. उन्हें अब दिल्ली छोड़ गुजरात जाना होगा. गृह मंत्रालय के पत्र पर ममता ने कहा कि उसका जवाब दिया जाएगा. ममता ने कहा कि ये सब फालतू की चीज है. ममता ने कहा कि वे अगले सप्ताह दिल्ली जाएंगी. ममता ने कहा कि देश को बचाना है तो मोदी को हटाना होगा. ममता बनर्जी रविवार रात नौ बजे के करीब मेट्रो चैनल गेट पर धरना देने बैठी थीं. उनका ये धरना तकरीबन 46 घंटे बाद मंगलवार शाम साढ़े 6 बजे खत्म हुआ. 
ममता ने कहा कि ये धरना भारत और लोकतंत्र को बचाने के लिए था. हमारे आईएएस और आईपीएस के लिए था. इस बीच आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्र बाबूनायडू ममता बनर्जी से मिलने पहुंचे. ममता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय सकारात्मक था. ममता ने कहा कि ये लड़ाई अब अगले सप्ताह दिल्ली ले जाई जाएगी.
सूत्रों के मुताबिक कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ के लिए सीबीआई ने 4-5 अधिकारियों की एक टीम बना दी है. डीएसपी रैंक के अधिकारी तथागत बरदान टीम का नेतृत्व करेंगे. 
गृह मंत्रालय ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए हैं. गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को इस बाबत पत्र लिखा. गृह मंत्रालय ने राजीव कुमार पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को कहा है. राजीव कुमार के कुछ अन्य पुलिस अधिकारियों के साथ ममता बनर्जी के धरने पर बैठने को नियमों का उल्लंघन बताया गया है.
सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ममता बनर्जी नियमों का पालन नहीं कर रही हैं. वह सीबीआई जांच में रुकावट पैदा कर रही हैं. इसके अलावा केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने भी ममता बनर्जी पर कड़ा हमला बोला.
ममता बनर्जी ने धरना स्थल से ही मीडिया को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि इस लड़ाई में अकेले नहीं हैं, पूरा देश हमारे साथ है.
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसे अपनी नैतिक जीत बताया है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार संविधान का उल्लंघन कर रही है, हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे. उन्होंने कहा कि इस देश का कोई बिग बॉस नहीं हो सकता है, सिर्फ लोकतंत्र ही बिग बॉस है. ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की आलोचना करने पर हमारा विरोध होता है. सुप्रीम कोर्ट का आदेश बंगाल की जनता, देश की जनता और मीडिया की जीत है. उन्होंने कहा कि कई मंत्री फोन करके कहते हैं कि ममता बनर्जी के खिलाफ मत बोलें.
सुप्रीम कोर्ट की ओर से अवमानना मामले में नोटिस जारी कर दिया गया है. इसका जवाब 18 फरवरी तक दाखिल करना होगा. मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी. चीफ जस्टिस ने कहा कि डीजीपी, पुलिस कमिश्नर और चीफ सेक्रेटरी को 20 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में पेश होना होगा.
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने आदेश दिया है कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होना चाहिए और उन्हें जांच में सहयोग करना चाहिए. हालांकि, इस दौरान सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार नहीं कर सकती है. पश्चिम बंगाल की सरकार की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि सीबीआई राजीव कुमार को गिरफ्तार करना चाहती है, जिसपर सीजेआई ने कहा कि आप बहुत ज्यादा कल्पना करते हैं.चीफ जस्टिस ने आदेश दिया है कि पुलिस कमिश्नर को शिलॉन्ग में सीबीआई के सामने पेश होना होगा.
सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राजीव कुमार को पूछताछ का सामना करने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. हम नोटिस के जारी किए बिना कोई अवमानना नहीं कर सकते हैं. अवमानना तय करने से पहले दूसरे पक्ष को भी सुनना होगा. 
सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई है, सुदिप्तो रॉय को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया गया. उनके पास से लैपटॉप और सेलफोन बरामद किए गए थे. हमें वो डाटा भी मिला, जो फोरेंसिक को नहीं भेजे गए थे. उन्होंने दावा किया कि जो सबूत सीबीआई को दिए गए वो अधूरे थे. साथ ही कॉल डिटेल की जानकारी भी नहीं दी गई थी. अटॉर्नी जनरल ने कहा कि सीबीआई ने दर्ज की गई एफआईआर पर कार्रवाई की, एफआईआर रोजवैली के खिलाफ था.
सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई की ओर से अटॉर्नी जनरल ने दलील दी है कि इस मामले में एसआईटी ने जांच सही से नहीं की है. जांच के दौरान टीएमसी से जुड़े लोगों की जांच नहीं की गई है, सीबीआई ने उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की. समन के आधार पर हम एसआईटी के पास गए, क्योंकि सीबीआई को सभी दस्तावेज नहीं सौंपे गए थे. सीबीआई ने कहा है कि एसआईटी के प्रमुख डीजीपी थे, लेकिन राजीव कुमार ही सारी फंक्शनिंग कर रहे थे.
सीबीआई और पश्चिम बंगाल विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच कर रही है सुनवाई. हलफनामे में सीबीआई ने कहा है कि मामले की जांच कर रही एसआईटी ने शारदा, रोज वैली, टावर ग्रुप जैसी कंपनियों को मदद पहुंचाई. जिन कंपनियों को एसआईटी ने मदद पहुंचाई है, वह सभी टीएमसी के कैंपेन में योगदान देते हैं. इसके अलावा सीबीआई ने कोलकाता पुलिस पर काम में बाधा डालने का आरोप लगाया है.
सीबीआई की ओर से सुप्रीम कोर्ट में जो हलफनामा दायर किया गया है, उसमें राजीव कुमार के खिलाफ पुख्ता सबूत होने का दावा किया गया है. इसमें कहा गया है कि राजीव कुमार ने मौजूद साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ की थी. सीबीआई ने अपील की है कि वह सबूतों को सील कवर में पेश करना चाहती है. सीबीआई का कहना है कि वह इस मामले में चिट फंड नैक्सेस, पुलिस की लापरवाही और एक्शन ना लिए जाने की जांच कर रही है.
सोमवार को ममता बनर्जी से मिलने राजद नेता तेजस्वी यादव, डीएमके नेता कनिमोझी समेत विपक्ष के अन्य नेता कोलकाता पहुंचे. इसके अलावा मंगलवार को भी दिल्ली में विपक्ष के नेता मोदी सरकार के खिलाफ रणनीति बनाने का काम करेंगे. सोमवार को भी विपक्ष ने लोकसभा-राज्यसभा में केंद्र सरकार के खिलाफ हंगामा किया था. 
मंगलवार को इस मसले के लिहाज से बड़ा दिन है. सुप्रीम कोर्ट में आज सीबीआई की याचिका पर सुनवाई होनी है. सोमवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई और अन्य पक्षों से सबूत पेश करने को कहा था. इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना करेंगे. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर कोलकाता कमिश्नर के खिलाफ सबूत मिलते हैं तो उन्हें पछतावा होगा.
देश अब पूरी तरह से चुनावी मोड में आ चुका है. 2019 की पहली सियासी लड़ाई पश्चिम बंगाल में लड़ी जा रही है, जहां पर राज्य की मुखिया केंद्र सरकार के खिलाफ धरने पर बैठी हैं. ममता बनर्जी के धरने का आज तीसरा दिन है. बहुचर्चित चिटफंड घोटाले से जुड़े मामले में जब सीबीआई की टीम कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंची, तो कोलकाता पुलिस ने उन्हें धर लिया. अब ममता बनर्जी, केंद्र सरकार पर सीबीआई का दुरुपयोग करने का आरोप लगाकर धरना दे रही हैं.