जबलपुर। रेल, कोयला एवं कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल के ने आम बजट संसद में प्रस्तुत किया गया। यह बजट नये भारत का बजट है जो भारतीय रेल को आधुनिक, सुरक्षित, संरिक्षत और आरामदायक परिवहन के रूप में बदलने के लिए है। इस बजट में रेल में निवेश को बढ़ाकर १,५८,६५८ करोड़ रूपये कर दिया गया है। बजट प्रस्तुत करते हुये गोयल ने बताया गया कि भारतीय रेल में यात्री सुविधाओं के लिए सेमी हाई स्पीड ट्रेन वन्दे भारत एक्सपे्रस की शुरूआत जल्द की जायेगी। भारतीय रेलवे पर ब्राडगेज में स्थित सभी मानवरहित फाटकों को समाप्त कर दिया गया है।
ये मिला पमरे को ......
    अंतरिम बजट २०१९-२० के दौरान पश्चिम मध्य रेलवे को कुल ३१५८ करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। अंतरिम बजट होने के कारण बजट में नए कार्यो का समावेश नहीं किया गया। पूर्व में स्वीकृति दोहरीकरण एवं तिहरीकरण के कार्यो के लिए १०८८ करोड़ रूपये एवं नई लाईन जैसे ललितपुर-सिंगरौली के लिए ३२५ करोड़, रामगंज मण्डी-भोपाल के लिए ३५० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। दोहरीकरण में मुख्यतः कटनी-सिंगरौली में ३०० करोड़, बीना-कोटा में २४० करोड़ रूपये, कटनी-बीना तिहरीकरण में १८० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। इन प्रावधनों के कारण दोहरीकरण एवं तिहरीकरण का कार्य २०१९-२० में तेज गति से संपादित किया जा सकेगा।
ये भी मिला .........
- मदनमहल स्टेशन के कोचिंग टर्मिनल के विस्तार के लिए १५ करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है।
-  टै्रक की सुरक्षा के लिए पुरानी पटरियों के नवीनीकरण के जिए कुल ५२२ करोड़ रूपये, रोड ओवर ब्रिज एवं अण्डर पासेस हेतु २५० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है।
-  यात्रियों की सुविधा बढाने हेतु कुल १७८ करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। 
- पश्चिम मध्य रेलवे में मुख्यतः फुट ओवर ब्रिज के लिए ८५ करोड़ रूपये, स्टेशन पर लिफ्ट लगाने के लिए ५ करोड़ रूपये, स्टेशनों में यात्रियों से संबंधित सुधार वâे लिए ४० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है।
- बजट में पश्चिम मध्य रेलवे के विकास हेतु आवश्यक धन (३१५८ करोड़ रूपये) का प्रावधान होने के कारण विभिन्न कार्य योजनायें तीव्र गति से संपादित की जा सकेगी।