बिलासपुर ।  रेलवे स्टेण्ड पार्किंग का ठेका लेने वाले ठेकेदार के कर्मचारियों द्वारा लोगों से गुंडागर्दी से बाज नहीं आ रहे हैं। कई बार शिकायत के बाद भी रेलवे प्रशासन ठेकेदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। कल रात ठेकेदार के शराबी कर्मचारियों ने शहर के एक प्रतिष्ठित डॉक्टर से मारपीट करते हुए उनके मोबाइल को तोड़ दिया। रेलवे पुलिस सिर्फ तमाशा बनकर देखती रही। मारपीट से आहत डाक्टर उसके बाद सीधे तोरवा थाना पहुंचे और सारा मामला पुलिस को बताया। डाक्टर से मारपीट करने वाले दोनों आरोपी युवक शराब के नशे में थे।
तोरवा पुलिस से मिली जानकारी अनुसार डॉ अंशुमन तिवारी पिता रमेश कुमार तिवारी ओमनगर जरहाभाठा निवासी व्यापार विहार स्थित महादेव अस्पताल में सर्जन है, जो कि कल रात अपनी पत्नी को कार में लेकर स्टेशन गए हुए थे। बिलासपुर रेलवे स्टेशन के गेट नंबर ४ पर अपनी पत्नी को छोडक़र वापस आया तो उसे दो युवक विक्की और सहदेव ध्रुव जो कि शराब के नशे में धुत थे।वे कहने लगे कि गाड़ी यहां क्यों रखे हो जुर्माना दो इतने में डॉक्टर ने कहा कि अपना आई डी बताओ तो दोनों युवक आगबबूला हो गए और डॉक्टर से गाली गलौज करते हुये मारपीट कर दी।वही उसका मोबाइल भी तोड़ दिया और जान से मारने की धमकी दी। रेलवे पुलिस के आने पर युवक शांत हुये, पीडि़त डॉक्टर ने आरोपी युवको के खिलाफ तोरवा थाना में मामला दर्ज कराया है