फिल्म का नाम : पेट्टा

कलाकार : रजनीकांत, नवाजुद्दीन सिद्दीकी

निर्देशक : कार्तिक सुब्बराज

रेटिंग: 3.5

पेट्टा फिल्म के निर्देशक कार्तिक सुब्बाराज ने एक बार बताया था कि 'रजनीकांत ने जब फिल्म की स्क्रिप्ट सुनी थी तो उन्होंने कहा कि कहीं न कहीं मैं ही इस फिल्म के लिए उपयुक्त किरदार हूं.' पेट्टा को  देखने के बाद यही लगता है कि ये पूरी तरह से रजनीकांत की ट्रेडमार्क एंटरटेनिंग फिल्म है. फिल्म के निर्देशक कार्तिक सुब्बाराज ने इसे एक कमर्शियल एंटरटेनर बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. रजनीकांत पर भरोसा जताते हुए कार्तिक एक डायरेक्टर के तौर पर बैकसीट पर दिखाई देते हैं और 'थलाइवा' भी अपने फैंस और अपने निर्देशक को बिल्कुल निराश नहीं करते हैं.

क्या है फिल्म की कहानी ?

फिल्म की कहानी शुरू होती है जब रजनीकांत का किरदार काली एक हॉस्टल वॉर्डन के तौर पर कॉलेज जॉइन करता है. पर काली कोई आम इंसान नहीं बल्कि एक सीक्रेट मिशन पर है. कहानी में मोड़ तब आता है जब काली का सामना यूपी के एक नेता से होता है. नेता का किरदार नवाजुद्दीन सिद्दीकी निभा रहे हैं. वहीं उनके बेटे के किरदार में विजय सेतुपति हैं. हॉस्टल वॉर्डन 'काली' के तौर पर रजनीकांत ने बेहतरीन परफ़ॉरमेंस दी है.

अभिनय कैसा है ?

फिल्म में रजनीकांत के ट्रेडमार्क स्टाइल और उनके एंटरटेनिंग अंदाज़ देखा जा सकता है जिसके लिए एक्टर देशभर में मशहूर हैं. हॉस्टल के मेस मैनेजर के साथ रजनीकांत के संवाद बेहद फनी हैं. इसके अलावा रजनी और सिमरन की केमिस्ट्री शानदार बन पड़ी है. नवाजुद्दीन और विजय सेतुपति के साथ भी रजनीकांत के सीन्स देखने लायक हैं.

'पेट्टा' में पूरी तरह थलाइवा ही छाए रहते हैं और ये बात बाकी कलाकारों की परफॉर्मेंस में भी झलकती है. रजनीकांत के सामने नवाज की चमक फीकी नजर आती है. यही हाल विजय सेतुपति का भी है. इसे फिल्म का एक कमज़ोर पक्ष भी कहा जा सकता है कि नवाज़ के किरदार में गहराई की कमी है. हालांकि रजनीकांत अकेले फिल्म को संभाल लेते हैं.

उम्दा सिनेमैटोग्राफी 

नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित सिनेमाटोग्राफर तिरू की सिनेमाटोग्राफी इस फिल्म में देखने लायक है. इसके अलावा फिल्म में कैमरा वर्क और प्रोडक्शन डिज़ाइन का स्तर भी शानदार है.

फिल्म में गाने और बैकग्राउंड म्यूज़िक भी कहानी के फ्लो को बरकरार रखते हैं हालांकि एक दो जगहों पर गाने, कहानी को थोड़ा स्लो करते हैं जो अखरता है. रजनीकांत के फैंस के लिए पोंगल 2019 बेहद शुभ और खुशियों भरा होने जा रहा है. पेट्टा रजनीकांत की दो महीने के अंदर दूसरी फिल्म है.

इससे पहले काला जैसी राजनीतिक और गंभीर फिल्म में नज़र आए थे. मगर कार्तिक सुब्बाराज ने रजनीकांत के साथ एक बेहद एंटरटेनिंग फिल्म का निर्माण किया है जिसमें एक्शन, रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी और इमोशन्स का डोज़ है और रजनीकांत के फैंस को इस फिल्म को बिल्कुल मिस नहीं करना चाहिए.