बॉलीवुड में कैंसर का एक और मामला सामने आया है। सोनाली बेंद्रे और इरफान खान के बाद अब राकेश रोशन को कैंसर हुआ है। अभिनेता ऋतिक रोशन ने अपने पिता राकेश रोशन के साथ एक तस्वीर शेयर कर इस बात का खुलासा किया है। 
राकेश रोशन का इलाज शुरू हो गया है। उनके गले में कैंसर है। राकेश रोशन हमेशा अपने भारी-भरकम बजट वाली फिल्मों के लिए चर्चा में रहते हैं। उन्होंने अपने बेटे ऋतिक के लिए कई फिल्में बनाईं। यहां तक कि राकेश ने अपनी ही फिल्म 'कहो ना प्यार है' से बेटे को डेब्यू करवाया। कई हिट फिल्में देने के बाद अब वो एक और फिल्म 'कृष 4' बनाने की तैयारी में हैं। 
फिल्म बनाने से पहले ही राकेश को ये बीमारी होना बेहद दुखद है। इस वजह से फिल्म का काम भी कुछ समय के लिए रोक दिया गया है। माना जा रहा है कि 'कृष 4' भी एक बड़े बजट की फिल्म होगी।
संघर्ष के बाद यहां तक पहुंचे हैं राकेश 
राकेश रोशन ने टी प्रकाश राव के निर्देशन में बनी फिल्म 'घर घर की कहानी' में बतौर अभिनेता अपने करियर की शुरुआत की थी। राकेश ने कई फिल्में की लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद उन्होंने फिल्म डायरेक्शन में अपना हाथ आजमाना चाहा। इसी के चलते उन्होंने ऋषि कपूर के साथ 1980 में फिल्म 'आपके दीवाने' बनाई। फिल्म ठीक-ठाक चली लेकिन वो कामयाबी नहीं मिली जिसका राकेश रोशन को इंतजार था।
अभिनेता के रुप में रहे थे नाकाम 
इसके बाद 1982 में उन्होंने 'कामचोर' बनाई। इस फिल्म में उन्हें आर्थिक तंगी से जूझना पड़ा। राकेश रोशन की इस  फिल्म में जयाप्रदा भी थी। उन्हें फिल्म का मशहूर गाना 'तुझ संग प्रीत लगाई सजना' शूट करने के लिए ऊटी जाना था। तब राकेश के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो ऊटी जा सकें। इसके बाद उन्होंने अपनी कार गिरवी रख दी।
कार गिरवी रख उन्हें ढाई लाख रुपए मिले। उन पैसों से वो ऊटी गए और गाना शूट किया। जब पिक्चर रिलीज हो गई जो सफल रही , तो उन्होंने अपनी गाड़ी छुड़ाई। राकेश ने अपने जीवन में काफी संघर्ष किया है। पहले हीरो, फिर विलेन, फिर कॉमिक एक्टर और कुछ नहीं मिला तो बतौर साइड हीरो भी फिल्मों में काम किया। राकेश रोशन की 'कामचोर' काफी हिट हुई थी।
जे. ओम प्रकाश की बेटी से हुई शादी 
इसके बाद उनकी 'किशन कन्हैया' और 'करण अर्जुन' ने भी जमकर कारोबार किया। राकेश रोशन की शादी पिंकी से हुई जो मशहूर डायरेक्टर जे. ओम प्रकाश की बेटी हैं। पिंकी 17 साल की थीं जब उनकी राकेश रोशन से शादी करवा दी गई थी। राकेश और पिंकी के दो बच्चे सुनैना रोशन और ऋतिक रोशन हैं। ऋतिक भी अपने पिता का नाम रौशन कर रहे हैं। फिल्म 'कहो ना प्यार है' के साथ राकेश ने अपने बेटे को लॉन्च किया था।
'कहो ना प्यार है' से ऋतिक को लांच किया 
इस फिल्म ने भी बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड तोड़ कमाई की थी। इसके बाद तो उन्होंने कई फिल्में ऋतिक के साथ ही बनाईं। राकेश का मानना है कि जब घर में ही टैलेंट है तो बाहर से क्यों लें। राकेश रोशन के बारे में एक वाकया और है जो हैरानी भरा है। राकेश रोशन आज के दौर के एक सफल निर्देशक माने जाते हैं। नेम और फेम की उनके पास कमी नहीं है। इसी के चलते अंडरवर्ल्ड उनसे रंगदारी वसूलने की भी कोशिश कर चुका है। 
इसी सिलसिले में एक बार कुछ लोगों ने उन पर गोलियां बरसाईं थीं। इतना ही नहीं उन्हें फोन पर जान से मारने की धमकी तक मिल चुकी है। 
'के या क' अक्षर से शुरु होती है हर फिल्म 
हर फिल्म का नाम 'के या क' अक्षर से ही शुरू होता है। जैसे 'खून भरी मांग', 'किशन कन्हैया', 'करन अर्जुन', 'कहो ना प्यार है' और अब 'कृष'। 
इस बारे में राकेश रोशन ने कहा कि 1982 में उन्होंने 'कामचोर' बनाई थी। जो सुपर डुपर हिट हुई थी। इसके बाद उन्होंने 1984 में फिल्म 'जाग उठा इंसान' बनाई। जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप हुई। इसके बाद 1986 में राकेश ने भगवान दादा बनाई। ये फिल्म राकेश के ससुर जे ओम प्रकाश के डायरेक्शन में बनी। फिल्म में मुख्य किरदार रजनीकांत ने निभाया था। खास बात ये है कि भगवान दादा ऋतिक रोशन की भी पहली फिल्म थी। 
उन्होंने इस फिल्म में बाल कलाकार की भूमिका अदा की थी। जब पिक्चर लॉन्च हुई तो राकेश के फैन्स ने उन्हें कई खत भेजे। इसमें लोगों ने उन्हें सुझाव दिया था कि वो फिल्म का नाम के अक्षर से रखें। इसमें 'कामचोर' का उदाहरण भी दिया गया। लेकिन राकेश ने लोगों के सुझाव पर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने इसी नाम से फिल्म रिलीज कर दी। बदकिश्मती से यह फिल्म भी फ्लॉप हो गई। इस नाकामयाबी के बाद राकेश ने लोगों के सुझाव पर ध्यान दिया और 1987 में फिल्म खुदगर्ज बनाई जो बेहद हिट हुई। इसके बाद राकेश कामयाबी की सीड़ियां चढ़ते गये।