वेब सीरीज : मिर्जापुर

कलाकार : पंकज त्रिपाठी, अली फजल, दिव्येंदु शर्मा, विक्रांत मैसी, कुलभूषण खरबंदा, राजेश तैलंग, श्रिया पिलगांवकर, रसिका दुग्गल, शीबा चड्ढा, शुभ्रज्योति भारत और अन्य.

निर्देशक : करण अंशुमान, गुरमीत सिंह और मिहिर देसाई

अभिनय के लिहाज से मिर्जापुर बढ़िया वेब सीरीज है. कई कलाकारों का काम तो चौंकाने वाला है. खासकर अली फजल और दिव्येंदु शर्मा का काम काबिलेतारीफ है. मिर्जापुर को अगर इन दोनों के काम के लिए याद किया जाए तो कुछ गलत नहीं होगा.

वेब सीरीज में गुड्डू पंडित के रूप में अली फजल का लुक कहानी और उनके किरदार के मुताबिक ही है. वो बहुत मासूम और सीधा है, संकोची है, लड़कियों से शर्माता भी है और उसमें बचपना कूटकूटकर भरा है. उसके सपने एक औसत बच्चे की तरह हैं. उसे लगता है कि कब उसे साइकिल से छुटकारा मिलेगा? मिस्टर पूर्वांचल का खिताब उसके लिए जैसे जीवन की सबसे बड़ी चीज है.

लेकिन उसके अंदर अजीब सी बेचैनी भी है. उसे देखकर पता नहीं चलता कि एक पल में वो कैसे एक दुनिया से निकल कर दूसरी दुनिया में चला जाता है. बिना बात के लिए लोगों की जान लेने वाला गुड्डू पंडित स्वीटी के सामने नर्वस हो जाता है और अपने दिल की बात नहीं बोल पाता. पिता से झगड़ पड़ता है पर मां के लिए पता नहीं कितना प्यार उसके सीने में है. जैसे वो सारा शहर मां के लिए खरीदकर देना चाहता है. वो चाहता है सारा शहर उसके मां की इज्जत करे. क्राइम के वक्त वो इतना क्रूर नजर आता है कि कई सीन्स में उसे देखना डर को महसूस करना है. हालांकि पहले सीजन के ज्यादातर हिस्सों में वह एक ही मूड में नजर आता है जो उसके किरदार को पूरी तरह उभारने में जर्क की तरह नजर आता है. हालांकि यह गलती अली फजल की नहीं है. उन्हें जैसी कहानी और सीन्स मिले उसे पूरी शिद्दत से उन्होंने जिया है.

बबलू पंडित के किरदार में विक्रांत मैसी भी जंचे हैं. उनकी आंखों में संकोच, डर और गुस्सा किरदार के मुताबिक ही है. उन्हें कहानी जितना स्पेस मिला उसे बढ़िया से कर गए हैं.

दिव्येंदु ने किरदार के हर रंग को जिया

मुन्ना त्रिपाठी के रूप में दिव्येंदु के अभिनय को देखकर लोगों को ताज्जुब होगा. मुन्ना क्रूरता की हद तक क्रूर और व्यभिचारी है जो घर की नौकरानी से ही व्यभिचार कर अपनी हवस मिटाता है. जैसे वो बिस्तर पर अपने खिलाफ उठ रही हर आवाज को मिर्जापुर में रौंदना चाहता है. वो इतना आततायी है कि जूते पर पेशाब का छींटा पड़ने भर से किसी को भी बेदर्दी से मरवा देता है. यहां तक कि मिर्जापुर का किंग बनने के लिए उसे अपने पिता की जान लेने में भी कोई संकोच नहीं.

लेकिन दिल उसके अंदर भी है. जब पिता की हत्या की कोशिश में उसका सबसे करीबी दोस्त पकड़ा जाता है और खुद उसे दोस्त की जान लेनी पड़ती है, मुन्ना टूट जाता है. दिव्येंदु ने इस सीन में कमाल की एक्टिंग की हैं. मुन्ना के किरदार ने दिव्येंदु ने सभी रंग दिखाने की कोशिश की है.

शुभ्रज्योति सबसे परफेक्ट 

सीरीज में पंकज त्रिपाठी का अहम किरदार है. ये उनके लिए सोचने का वक्त भी है. वो कुछ भूमिकाओं खासकर माफिया या पिता के किरदार में टाइप्ड होते जा रहे हैं. मिर्जापुर में भी कई जगह वो "बरेली की बर्फी" के पिता वाले किरदार में नजर आते हैं तो कुछ सीन्स में "गुडगांव" के माफिया. उन्हें इस खांचे से बाहर निकलना होगा. अगर मिर्जापुर में देखें तो पंकज का किरदार आख़िरी एपिसोड के उस सीन में अदायगी के लिहाज से बहुत ऊंचाई पर नजर आता है, जहां वो पुलिस अफसर मौर्या के साथ संवाद करते हैं.
रति के रूप में शुभ्रज्योति का किरदार भले ही छोटा है पर अभिनय, स्थानीय संवाद और लुक के मामले में वो सीरीज में सबसे परफेक्ट दिखते हैं. इसीलिए हर सीन में वो काफी जंचे भी हैं. उन्हें देखकर एक पल भी नहीं लगता कि रति, मिर्जापुर या जौनपुर का माफिया नहीं हैं.

रसिका दुग्गल ने भी कालीन भैया की दूसरी व्याहता के रूप में अच्छा काम किया है. हालांकि रसिका के किरदार की कुंठा पहले सीजन में पूरी तरह उभर कर सामने नहीं आ पाती. जबकि वो पति के पुरुषत्व से परेशान है, अपनी संतुष्टि के लिए घर से नौकर से नाजायज संबंध बनाने पड़ते हैं. जो नौकरानी राधिका से मुन्ना त्रिपाठी के पुरुषत्व के किस्से सुनकर तृप्त होना चाहती है.

रसिका के अलावा वसुधा के किरदार में शीबा चड्ढा, स्वीटी (श्रिया), गोलू और डिम्पी (हर्षिता गौर) का किरदार भी बढ़िया है. मकबूल, किन्नर, यादव जी, गुप्ता जी, एसपी मौर्या, रधिया और दूसरे तमाम किरदार निभाने वाले कलाकारों का काम भी अपनी जगह ठीक ठाक ही है.  

लेकिन कई किरदार ऐसे भी हैं जो कहानी में वो ऊँचाई नहीं पा सके, शुरुआत में उनके किरदार की जिस तरह एंट्री हुई थी. वकील रमाकांत पंडित (राजेश तैलंग) का किरदार पहले एपिसोड में जिस दबंगई और मजबूती से दिखता है वो बाद की कहानी में कमजोर और भटक सा गया है. कई बार उनकी मौजूदगी निरर्थक सी है.

इस सीरीज के लिए कुलभूषण खरबंदा के काम की भी तारीफ़ होनी चाहिए. जबकि उनके हिस्से सबसे कम संवाद आए हैं, लेकिन उन्होंने पैरों से लाचार, बेहद जातिवादी पौरुष पर घमंड करने वाले बूढ़े माफिया का किरदार बहुत ही शिद्दत से निभाया है. वो बहू बीना के अनैतिक संबंधों का जिस तरह फायदा उठाते हैं और उसका बलात्कार करते हैं, नौकर राजा को जिस तरीके सजा दिलवाते हैं, उसे देखकर उनके किरदार से घिन होती है. यह कुलभूषण के अभिनय की अपनी ऊंचाई है.   

पंकज के किरदार को गढ़ना अब निर्देशकों की जिम्मेदारी?जाहिर सी बात है कि पंकज का किरदार लिखते, फिल्माते समय लेखक और निर्देशक की जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि कैसे वो इस कमाल के अभिनेता को उसके पुराने खांचों के साए से बाहर निकालकर ला पाते हैं. कई सीन्स में कालीन भैया के रूप में पंकज का लुक और संवाद अदायगी कई बार उन्हीं के पुराने किरदारों की याद दिला जाता है. निर्देशकों को चाहिए कि पंकज के किरदार के मुताबिक उनके लुक पर कायदे से काम करें.