इंदौर: मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाओं में सरकारी कर्मचारियों के जाने पर रोक लगाने के कांग्रेस के चुनावी वादे को लेकर सूबे की चुनावी सियासत में उबाल के बीच केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने मंगलवार रात संघ के प्रति समर्थन जताया. उन्होंने कहा कि संघ पर किसी तरह का प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता, क्योंकि यह संगठन एक विचारधारा के रूप में उन जैसे कई लोगों के मन में बसा है. 

उमा भारती ने कहा, 'संघ एक राष्ट्रवादी विचारधारा है जो हम सबके अंदर बसी है. यही वजह है कि संघ या इसके किसी कार्यकर्ता का कभी औपचारिक पंजीयन नहीं कराया जाता.' केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'जब तक हम लोग मर नहीं जाते, तब तक संघ पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता.हम जब तक ज़िंदा रहेंगे, संघ हमारे भीतर बना रहेगा.'

'राहुल गांधी में गभीरता का घोर अभाव है' 
उमा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ऐसा नेता करार दिया, जिसमें गंभीरता का घोर अभाव है. उन्होंने कहा,'राहुल हर जगह केवल फोटो खिंचवाने और पिकनिक मनाने जाते हैं. कांग्रेस के लोगों को अच्छा कार्यकर्ता बनने के लिये बीजेपी से प्रशिक्षण लेना चाहिए.'
उमा ने वर्ष 2003 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की तत्कालीन दिग्विजय सिंह सरकार के खिलाफ बीजेपी के अभियान की अगुवाई की थी. इन चुनावों में बीजेपी ने विजय हासिल की थी और पिछले 15 सालों से यह पार्टी सूबे की सत्ता में बरकरार है. 

वर्ष 2003 के विधानसभा चुनावों और सूबे के आसन्न विधानसभा चुनावों में अंतर पूछे जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, "तब हमारा मुकाबला कांग्रेस की तत्कालीन सरकार की गलत करतूतों से था. अब हमें लोगों की आशाओं पर खरा उतरना है." 

उमा ने कहा, 'सूबे में 28 नवम्बर को होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी के सामने कांग्रेस टक्कर में कहीं नहीं है. राज्य हो या केंद्र, कांग्रेस जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाने में नाकाम रही है.'