वाशिंगटन: अमेरिका में अहम मध्यावधि चुनाव के लिए मंगलवार को हजारों मतदाताओं ने मतदान किया. इसे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की विवादास्पद नीतियों पर जनमत संग्रह के तौर पर देखा जा रहा है और इसके नतीजे राष्ट्रपति के तौर पर उनके अगले दो साल कैसे होंगे इसका फैसला करेंगे.

मतदान मेन, न्यू हैंपशायर, न्यूजर्सी, न्यूयॉर्क, वर्जीनिया समेत 50 में से 35 राज्यों में स्थानीय समयानुसार सुबह छह बजे शुरू हुआ. इससे पहले प्रतिनिधि सभा में बहुमत हासिल करने के लिये राष्ट्रपति ट्रंप ने आखिरी प्रयास किया. 

ट्रंप की पहली बड़ी चुनावी परीक्षा 
इस महत्वपूर्ण चुनाव को ट्रंप की पहली बड़ी चुनावी परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा है. इसे आप्रवास समेत ट्रंप की विवादित नीतियों पर जनमत संग्रह के तौर पर देखा जा रहा है.

2016 के राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार रहीं हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि हमारी लोकतांत्रिक संस्थाओं और मूल्यों को कमजोर करने और ट्रंप प्रशासन के हमले को दो साल तक देखने के बाद अमेरिकियों के लिये ‘बस बहुत हो चुका’ कहने का वक्त आ गया है.

उन्होंने मतदाताओं से ‘चरमपंथ, धर्मांधता और भ्रष्टाचार के खिलाफ मतदान’ करने और ऐतिहासिक संख्या में महिलाओं समेत समूचे देश में उम्दा उम्मीदवारों के पक्ष में मतदान करने की अपील की. वहीं प्रचार के दौरान ट्रंप ने प्रतिनिधि सभा में रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत बरकरार रखने के लिये मतदाताओं को समझाने का भरपूर प्रयास किया.  

अमेरिकी मतदाता मध्यावधि चुनाव में प्रतिनिधि सभा की 435 सीटों, सीनेट की 100 में से 35 सीटों, गवर्नर के 36 पदों और देशभर में राज्य विधायिकाओं की सीटों के लिये मतदान करेंगे.

रिपब्लिकन पार्टी को फिलहाल सीनेट और प्रतिनिधि सभा दोनों सदनों में बहुमत हासिल है और उनकी टीम ने अपनी पार्टी के पक्ष में चुनाव प्रचार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है.

क्या कहना है  राजनीतिक विशेषज्ञों का? 
राजनीतिक विशेषज्ञों के अनुसार डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रतिनिधि सभा में जीतने की अच्छी संभावना है, जबकि रिपब्लिकन पार्टी के सीनेट में बहुमत बरकरार रखने की उम्मीद है.

अमेरिका की प्रतिनिधि सभा की 435 सीटों में फिलहाल रिपब्लिकन पार्टी के पास 235 सीटें हैं जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी के पास 193 सीटें हैं. प्रतिनिधि सभा की सभी सीटों के लिये हर दो साल में मतदान होते हैं. 100 सीटों वाली सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी के अपनी सीटों की संख्या बढ़ाने की उम्मीद है. सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी को मामूली बहुमत हासिल है.

क्लीवलैंड में सोमवार को चुनाव की पूर्व संध्या पर रैली के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप ने दावा किया कि मध्यावधि चुनाव ‘नीरस’ हुआ करते थे, लेकिन मतदान प्रतिशत और राष्ट्रपति के रूप में उनके कार्यकाल पर मीडिया की पैनी नजर की वजह से अब यह काफी दिलचस्प हो गया है.

मध्यावधि चुनाव की पूर्व संध्या पर एसएसआरएस द्वारा सीएनएन के लिये किये गए नए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण के अनुसार डेमोक्रेटिक पार्टी को संभावित मतदाताओं में रिपब्लिकन पार्टी पर दोहरे अंकों में बढ़त हासिल है.