हिसार। इनेलाे में कलह ने अब टूट का रूप लेती दिख रही है। दुष्‍यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के पिता डॉ. अजय चौटाला द्वारा कड़े तेवर दिखाने के बाद इनेलो में जंग रोमांचक रूप ले रहा है। अजय चौटाला के जेल से बाहर आने बाद आक्रामक तेवर पर छोटे भाई अभय चौटाला ने कोई प्रतिक्रिया देने से इन्‍कार कर दिया। लेकिन, उन्‍होंने बिना नाम लिए दुष्यंत चौटाला पर हमला किया। उन्‍होंने कहा, कांग्रेस में सीएम पद के पांच-छह दावेदार हैं। हमारे यहां भी एक मुख्‍यमंत्री का उम्‍मीदवार पैदा हो गया है।

यहां चौधरी देवीलाल सदन में आयोजित जिला कार्यकर्ता सम्‍मेलन में अभय चौटाला ने बिना नाम लिए भतीजे दुष्‍यंत चाैटाला पर कटाक्ष किए। अभय ने कहा कि आज चुनाव करवाए जाए तो भाजपा की एक सीट आएगी। कांग्रेस में तो पांच से छह मुख्यमंत्री पद के दावेदार है। म्हारे भी न्यारा मुख्यमंत्री का उम्मीदवार पैदा हो गया।

इस सम्मेलन खास बात यह रही कि दुष्यंत का गढ़ माने जाने वाले हिसार जिले के तीन इनेलाे विधायकों में से दो विधायक अभय चौटाला के साथ मंच पर नजर आए। उकलाना के विधायक अनूप धानक ने कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी। नलवा के विधायक रणबीर गंगवा, बरवाला के विधायक वेद नारंग, सिरसा के विधायक मक्खन लाल सिंगला और रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोज सहित अन्य विधायक भी मौजूद रहे। इसके अलावा सांसद चरणजीत रोड़ी भी अभय के साथ मंच पर मौजूद रहे।

इस मौके पर विधानसभा नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने कहा कि पिछले दिनों जब इसी जगह बाहर से अंदर आ रहे था। तब लोग बाहर नारे लगाकर खेल बिगाड़ने का काम कर रहे थे। नारे लगाने से पार्टी में अनुशासनहीनता बढ़ती है। उन्‍होंने दुष्‍यंत चौटाला की ओर इशारा करते हुए कहा, नारे ना लगाओ, कहीं नारे सुनकर मेरा दिमाग खराब न हो जाए। मैं भी यह न सोचने लगूं की सारा देश मेरे साथ खड़ा है। इसलिए मेरे नारे न लगाए।
उन्होंने कहा कि गोहाना रैली में भाजपा और कांग्रेस के कुछ लोग भेष बदल कर इनेलो कार्यकर्ता बनकर आए थे। वहां पर उन लोगों ने हुटिंग और सीटियां बजाई और पार्टी का अनुशासन भंग करने की कोशिश की। मैंने तभी भी उन लोगों को कहा था कि पार्टी के यदि तुम कार्यकर्ता हो तो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के पांच बातों का जनता के बीच जाकर प्रचार करो।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग इनेलो और बसपा के गठनबंधन को कमजोर कह रहे हैं। हमारा गठबंधन ताकतवर है। हाथी हमेशा ताकतवर होता है। कुछ पार्टियों के नेता कटाक्ष करते थे कि हाथी को दिखता नहीं है। हमने हाथी को ऐनक लगा दी है। हाथी सभी को रौंद देगा। अगली सरकार इनेलो की होगी।
अभय चौटाला ने कहा कि एसवाइएल पर पुन: आंदोलन शुरू किया जाएगा। 15 नवंबर के बाद इनेलो और बसपा के नेता बैठक कर आंदोलन की आगामी रणनीति बनाएंगे। इस बार हमारा आंदोलन एसवाइएल में पानी लाने के बाद ही खत्म होगा। 

सम्‍मेलन में कई नेताओं ने इशाराें में दुष्‍यंत चौटाला की मां नैना चौटाला पर भी इशारों में कटाक्ष किए। इन नेताओं ने विधायक नैना चौटाला की हरी चुंदडी चौपाल पर कटाक्ष किए। दो-तीन महिलाओं ने इनेलो जिंदाबाद के नारे लगाए तो महिलाओं ने साथ नहीं दिया। तभी महिला नेताओं ने कटाक्ष किया ' तन्ने भी चुंदड़ी ओड ली कै।'
इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा का लहजा पूरी तरह से बदला नजर आया। उन्होंने कहा कि कुछ पूंजीवादी इनेलो को दोफाड़ करने में लगे हुए हैं। हम इनेलो को दो फाड़ नहीं होने देंगे। चौधरी ओमप्रकाश चौटाला का आशीर्वाद है। पार्टी को कमजोर नहीं होने देंगे। हम अपनी ताकत से जवाब देंगे।