नई दिल्ली/चंडीगढ़। इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलाे) के विवाद में आज से नया मोड़ आने की संभावना है। सांसद दुष्‍यंत चौटाला अौर दिग्विजय चौटाला को इनेलो से निष्‍कासित किए जाने के बाद उनके पिता अजय सिंह चौटाला सोमवार दोपहर तिहाड़ जेल से पैरोल पर बाहर आ गए। उनको जेल से बाहर आने के बाद दुष्‍यंत चौटाला उनको दिल्‍ली अपने सरकारी आवास 18 जनपथ लेकर पहुंचे। वहां हजारों की संख्‍या में समर्थकों ने स्‍वागत किया।अजय सिंह चौटाला इनेलो के प्रदेश प्रधान महासचिव हैं। अजय चौटाला जब तिहाड़ जेल से बाहर अाए तो काफी संख्‍या में समर्थकों ने जेल के बाहर उनका स्‍वागत किया। इसका बाद सांसद पुत्र दुष्‍यंत चौटाला उनको कार से अपने सरकारी अावास उनको लेकर पहुंचे। 

सांसद दुष्यंत चौटाला इनेलो नेता अजय चौटाला अपने बेटों दुष्यंत व दिग्विजय की जय के लिए सोमवार से राजनीतिक मैदान में खुलकर सामने आएंगे। दीपावली तक दिल्ली में रुककर पुराने समर्थकों को जोडऩे के बाद वह प्रदेश व्यापी दौरा कर बेटों के समर्थन में भावनात्मक माहौल बनाएंगे। दुष्‍यंत के अावास पर सुबह ही हजारों की संख्‍या में समर्थक पहुंच गए थे। यहां पहुंचने पर समर्थकों ने अजय, दुष्‍यंत और दिग्विजय चौटाला के समर्थन में जमकर नारेबाजी की।शिक्षक भर्ती घोटाले में अपने पिता पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला के साथ दस वर्ष की सजा काट रहे अजय चौटाला ने पिछले पांच साल में सक्रिय राजनीति में हिस्सा नहीं लिया। वह पैरोल पर आने के बाद भी कार्यकर्ताओं से सिर्फ घर पर मिलते थे लेकिन इस बार दुष्यंत व दिग्विजय की टीम ने उनका पूरे प्रदेश में दौरा तय किया है। इस दौरान समर्थकों के बीच उनके भाषण की पटकथा भी लिखी जा चुकी है। अजय समर्थकों के बीच यह मुद्दा भी भावनात्मक तरीके से उठाएंगे कि उनके जेल में रहते हुए दोनों बेटों को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया।