इस्लामाबाद: पाकिस्तान में शीर्ष तालिबान समर्थक धर्मगुरू मौलाना समीउल हक को खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के अकोड़ा खट्टक नगर स्थित मदरसा दारूल उलूम हक्कानिया में शनिवार को सुपुर्दे खाक कर दिया गया. 82 वर्षीय धर्मगुरू को ‘‘तालिबान के गॉडफादर’’ के तौर पर भी जाना जाता था. अज्ञात हमलावरों ने गत शुक्रवार को रावलपिंडी शहर स्थित उनके आवास पर धारदार हथियार से हमला करके उनकी हत्या कर दी थी.  हक के अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए जिसमें नेशनल असेंबली के स्पीकर असद कैसर, खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के गवर्नर शाह फरमान, मुख्यमंत्री महमूद खान शामिल थे.

जनाजे की नमाज उनके पुत्र मौलाना हामिदुल हक ने पढ़ाई. जनाजे की नमाज के बाद हक को दारूल उलूम हक्कानिया में उनके पिता की कब्र के बगल में दफना दिया गया. हक के अंतिम संस्कार में राजनीतिक दलों के सदस्य, धार्मिक विद्वान और जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए. इसमें 65 सदस्यीय अफगान प्रतिनिधिमंडल भी शामिल हुआ.
पर्याप्त सुरक्षा उपायों के लिए दारूल उलूम हक्कानिया और उसके आसपास स्थित विभिन्न स्थलों पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था. हक दारूल उलूम हक्कानिया के प्रमुख थे. दारूल उलूम हक्कानिया को पश्विमी मीडिया द्वारा ‘‘जिहाद का विश्वविद्यालय’’ कहा जाता है क्योंकि वहां पर अफगान और पाकिस्तानी तालिबान के कई नेताओं ने शिक्षा ग्रहण की है.
उनमें मुल्ला उमर भी शामिल है जिसे इस मदरसे ने डाक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की थी. हक धार्मिक-राजनीतिक पार्टी जमीयत उलेमा ए इस्लाम के प्रमुख भी थे जो कि सत्ताधारी पाकिस्तान तहरीक इंसाफ पार्टी की सहयोगी है .  पाकिस्तान तहरीके इंसाफ पार्टी का नेतृत्व प्रधानमंत्री इमरान खान करते हैं. हक दो बार संसद के सदस्य भी रहे.

अभी तक किसी भी संगठन ने उनकी हत्या की जिम्मेदारी नहीं ली है. पुलिस ने कहा कि हमलावरों की धरपकड़ के लिए अभियान शुरू कर दिया गया है जो संभवत: बाइक पर फरार हुए थे. एयरपोर्ट पुलिस थाने में दर्ज करायी गई एक प्राथमिकी में कहा गया है कि हमला शाम पौने सात बजे हुआ और हक के पेट, सीने, माथे और कान पर 12 बार वार किए गए.

प्राथमिकी हक के पुत्र हामिदुल हक की शिकायत पर दर्ज की गई जिन्होंने पुलिस को बताया कि उनके पिता हमले के समय अकेले थे.  पुत्र ने हक का पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया और इसे इस्लाम की शिक्षा के खिलाफ बताया. इस बीच पुलिस ने हक के चालक और सुरक्षाकर्मी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है.रावलपिंडी पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज हासिल किया है. सूत्रों ने कहा कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि हत्या में कम से कम दो हमलावर शामिल थे.