मुंबई: अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कम होने तथा अमेरिका द्वारा ईरान से तेल आयात पर प्रतिबंधों से भारत को छूट देने की संभावना बढ़ने के बीच शुक्रवार को भारतीय रुपया डॉलर के मुकाबले 100 पैसे उछलकर 72.45 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ. शेयर बाजार में तेजड़ियों का जोर चलने और विदेशी कोषों की ओर से नया निवेश आने से भी रुपये की धारणा मजबूत हुई. पिछले दो दिन में रुपया 150 पैसे मजबूत हुआ है. गुरुवार को डॉलर के मुकाबले रुपये में 50 पैसे की मजबूती आई थी.

अन्तरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में, रुपया 73.14 प्रति डॉलर के भाव पर मजबूत खुला. कारोबार के दौरान यह एक समय 102 पैसे की तेजी के साथ 72.43 के दिन के उच्चतम स्तर को छू गया. अंत में तेजी 100 पैसे रही. बाजार बंद होने के समय विनिमय दर 72.45 रुपये प्रति डॉलर थी. सितंबर 2013 के बाद रुपये का यह सबसे मजबूत स्तर है. कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट से चालू खाते के घाटे (कैड) के बढ़ने की चिंता कुछ कम हुई है. इससे रुपये में सुधार में मदद मिली है. बंबई सूचकांक शुक्रवार को 580 अंकों की तेजी के साथ 35,011.65 अंक पर बंद हुआ. 

और मजबूत हो सकता है रुपया 
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें अप्रैल के बाद सबसे निचले स्तर हैं क्योंकि तेल उत्पादक देशों की ओर से उत्पादन अपने उच्चतम स्तर है. इसके उलट कच्चे तेल की वैश्विक मांग में कमी देखी जा रही है. अगर यह धारणा मजबूत रही तो आने वाले दिनों में रुपये में और मजबूती देखने को मिल सकती है.