लाहौर : पाकिस्तान में सात साल की एक छोटी बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या करने वाले एक सीरियल किलर को एक स्थानीय जेल में बुधवार को फांसी दे दी गई. नाबलिग बच्ची के पिता ने अदालत में दोषी को सार्वजनिक रूप से फांसी देने के लिए याचिका दायर की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया. 

नाबालिग से लगा था रेप का आरोप
सीरियल किलर इमरान अली को इस साल की शुरुआत में लाहौर से करीब 50 किलोमीटर दूर कसूर शहर में एक नाबालिग लड़की से बलात्कार और उसकी हत्या करने के मामले में दोषी ठहराया गया था, जिसे आज सुबह कोट लखपत सेंट्रल जेल में फांसी दी गई. ‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, अली (23) को मजिस्ट्रेट आदिल सरवर और मृतक के पिता की मौजूदगी में फांसी दी गई. लड़की के चाचा भी उस वक्त जेल में मौजूद थे.

लाहौर हाईकोर्ट ने खारिज की थी याचिका
लाहौर उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति सरदार शमीम अहमद और न्यायमूर्ति शाहबाज रिजवी की दो सदस्यीय पीठ ने मंगलवार को नाबालिग लड़की के पिता की उस याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें उन्होंने दोषी को सरेआम फांसी देने की मांग की थी.

एक नहीं कई वारदातों को अंजाम दे चुका है आरोपी
इसी साल जनवरी में घटना के दो हफ्ते बाद पुलिस ने इमरान को गिरफ्तार किया था. इमरान पर नाबालिगों से बलात्कार और उनकी हत्या करने की कम से कम नौ घटनाओं में शामिल होने का आरोप था. गौरतलब है कि उस घटना के बाद पूरे पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर उसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए थे. यहां की एक आतंक-निरोधक अदालत ने पिछले हफ्ते इमरान को फांसी की सजा सुनाई थी.