नवरात्रि के आठवें दिन देवी महागौरी की आराधना से भक्तों को मनचाहे फल की प्राप्ति की होती है। कई भक्त इस दिन अष्टमी का व्रत रखते हैं इससे मां की पूजा-अर्चना करने वालों के हर कष्ट दूर होते हैं। इस दिन अन्नकूट पूजा यानी कन्या पूजन का भी विधान है। कुछ लोग नवमी के दिन भी कन्या पूजन करते हैं लेकिन अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना ज्यादा फलदायी रहता है। मां की पूजा करने से मनचाहे जीवनसाथी की मुराद पूरी होती है। आइए जानते हैं मां महागौरी की पूजा से क्या लाभ मिलता है
1. कहा जाता है कि भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिये इन्होंने कठोर तपस्या की थी। इस दिन मां की पूजा करने से मनचाहे जीवनसाथी की मुराद पूरी होती है।
2. महागौरी की आराधना से किसी प्रकार के रूप और मनोवांछित फल प्राप्त किया जा सकता है और जीवन की अनेक समस्याओं एवं परेशानियों का नाश होता है।
3. यह दिन हमारे शरीर का सोमचक्र जागृत करने का दिन है। सोमचक्र उध्र्व ललाट में स्थित होता है। मां की आराधना से सोमचक्र जागृत हो जाता है और इस चक्र से संबंधित सभी शक्तियां श्रद्धालु को प्राप्त हो जाती है।
4. मां महागौरी के प्रसन्न होने पर भक्तों को सभी सुख स्वत: ही प्राप्त हो जाते हैं। साथ ही इनकी भक्ति से हमें मन की शांति भी मिलती है।
5. मां की उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य-पथ से विचलित नहीं होता।