हैदराबाद: पिछले दिनों तेलंगाना में हॉरर किलिंग की एक घटना ने पूरे देश को दहला दिया था. 21 साल की अमृता के सामने उसके पति प्रणय की हत्या कर दी गई. इस घटना के बाद तेलंगाना सरकार की तरफ से अमृता को 8 लाख नगद और दो बेडरूम का फ्लैट दिया. प्रदेश के अनुसूचित विभाग विकास मंत्री जी जगदीश रेड्डी प्रणय के घर पहुंच कर अमृता को 8 लाख का चेक दिया. इसके अलावा उन्होंने सरकार की तरफ से पांच एकड़ जमीन भी देने का वादा किया.
सरकार द्वारा दिए गए मुआवजे को लेकर अमृता को सोशल मीडिया पर घेरने की कोशिश की गई. सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने मुआवजे को लेकर सवाल उठाया. सोशल मीडिया पर घेरे जाने के बाद अमृता ने अपनी बात सामने रखी. उन्होंने कहा कि लोग मुझे गाली दे रहे हैं और जलील कर रहे हैं. लोग मुझसे पूछ रहे हैं कि मैं किस आधार पर ये पैसे डिजर्व करती हूं. इसके अलावा मुझे गंदी-गंदी गालियां भी दी जा रही है. 
अमृता ने कहा कि मैंने सरकार से किसी भी चीज की डिमांड नहीं की है. न तो मैंने मुआवजे की डिमांड की थी और न ही घर देने को कहा था. मैं बस न्याय चाहती हूं. मैं चाहती हूं कि प्रणय के हत्यारों को फांसी की सजा मिले.
बता दें, 25 वर्षीय प्रणय जब अपनी गर्भवती पत्‍नी को अस्‍पताल से दिखाकर बाहर निकल रहे थे उस वक्त पीछे से एक हमलावर ने धारदार हथियार से हमला करके उनकी हत्या कर दी. पूरी वारदात संस्थान में लगे सीसीटीवी में भी रिकॉर्ड हो गई. हॉरर किलिंग के इस मामले में अमृता ने अपने पापा, चाचा और भाई को ही दोषी ठहराया.