फिल्म का नाम : मनमर्जियां

डायरेक्टर: अनुराग कश्यप

स्टार कास्ट: तापसी पन्नू, अभिषेक बच्चन ,विक्की कौशल ,अशनूर कौर  

अवधि: 2 घंटा 35 मिनट

सर्टिफिकेट: U/A

रेटिंग:  3 स्टार

अनुराग कश्यप की फिल्मों का जिक्र होते ही, खून-खराबा, गोलियों की आवाज, मर्डर और डार्क शेड जहन में आ जाता है. पहली बार निर्माता-निर्देशक आनंद एल राय ने उन पर भरोसा करते हुए उन्हें प्रेम कहानी मनमर्जियां की स्क्रिप्ट दी, जिसे कनिका ढिल्लन ने लिखा है. पहले भी इस फिल्म की प्लानिंग हुई, लेकिन मन मुताबिक शूटिंग न हो पाने के कारण फिल्म को होल्ड पर रख दिया गया था. अंततः विक्की कौशल, तापसी पन्नू और अभिषेक बच्चन के साथ फिल्म की शूटिंग हुई और अब इसे रिलीज किया गया. पढ़िए फिल्म की समीक्षा.

कहानी :


फिल्म की कहानी अमृतसर (पंजाब) की है, जहां विक्की (विक्की कौशल) और रूमी (तापसी पन्नू) के बीच गहरा इश्क है. विक्की हमेशा घर के छज्जे से कूदकर रूमी से मिलने आता है और इस बात का पता पूरे मोहल्ले को होता है. जब इसकी जानकारी रूमी के घरवालों को होती है तो वे शर्त रखते हैं कि विक्की को रूमी से शादी करनी है तो उसे घर आकर हाथ मांगना पड़ेगा. कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब रूमी की शादी एनआरआई रॉबी (अभिषेक बच्चन) से तय हो जाती है, इस बात को सुनकर विक्की काफी बौखला जाता है. कहानी में कई मोड़ आते हैं और आखिरकार बहुत सारी सिचुएशन से गुजरते हुए, इसे अंजाम मिलता है, जिसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

क्यों देख सकते हैं:

फिल्म की कहानी सामान्य है, लेकिन अनुराग कश्यप ने अपने अंदाज में इसे दिखाया है. अमृतसर की गलियों में पनपने वाले इश्क को अलग-अलग फ्लेवर डालकर पेश किया गया है .फिल्म के द्वारा अपने जमाने की मशहूर लेखिका अमृता प्रीतम को शुक्रिया अदा भी किया गया है. गानों के फिल्मांकन का बड़ा रोल है. कुंडली, ग्रे वाला शेड, दरया , चोंच, सच्ची मोहब्बत जैसे गीत इसके स्क्रीनप्ले को निखारते हैं. अमित त्रिवेदी, लिरिक्स राइटर शैली और सभी गायक इसके लिए बधाई के पात्र हैं.  विक्की कौशल को एक डीजे के किरदार में दिखाया गया है जो कि होश और बेहोशी में अलग-अलग जोन में रहता है. विक्की ने अच्छा काम किया है. तापसी पन्नू का रूमी का किरदार बहुत बढ़िया है और इश्क की इन्तहां को उनकी आंखों में देखा जा सकता है. एक गैप के बाद अभिषेक बच्चन ने सिल्वर स्क्रीन पर वापसी की है और उन्होंने रॉबी का किरदार बखूब निभाया है, जिसके लिए अलग शेड्स की जरूरत थी और वो देखने को मिलती भी है. एक तरह से जो टिपिकल हिंदी रोमांटिक प्रेम त्रिकोण पर आधारित फिल्मों के लिए जरूरी सामग्रियां होती हैं, वो सब कुछ इस फिल्म हैं. गाने, इमोशन , त्वरित एक्शन इत्यादि से भरी फिल्म है. पूरी फिल्म के दौरान 2 लडकियां अलग-अलग गानों पर अपनी धुन में डांस करती नजर आती हैं. हालांकि उनकी देव डी के परदेसी वाले गाने में 2 लड़के एक पब में कुछ उसी तरह का डांस करते हुए दिखाई दिए हैं.
कमज़ोर कड़ियां:

फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी रफ़्तार है, जो की बहुत बड़ी समस्या भी है. सब कुछ काफी आराम से धीरे-धीरे चल रहा होता है. एक वक्त के बाद ऐसा लगता है कि फिल्म का इंटरवल कब होगा, क्लाइमेक्स भी काफी बड़ा है, जिसे क्रिस्प किया जाता तो फिल्म और भी बेहतर नजर आती . इसके साथ ही लगता है जो बात अनुराग कहना चाह रहे थे वो कहीं ना कहीं खो गई और फ्यार के बीच में प्यार कहीं गायब लगती है. ख़ास तौर पर विक्की कौशल का किरदार न्यायसंगत नजर नहीं आ पाता.

बॉक्स ऑफिस :

फिल्म की लागत लगभग 30 करोड़ बतायी जा रही है. बड़ी स्टार कास्ट की वजह से फिल्म को अच्छी ओपनिंग मिलने की उम्मीद है. अच्छी कमाई कर सकती है. 1500 से ज्यादा स्क्रीन्स में भी रिलीज किया जा रहा है .