रायसेन/देवरी. जिले के खमरिया टोला गांव में एक नव दंपति ने मरने से पहले शादी जैसा श्रृंगार किया। इसके बाद दोनों ने शादी वाले कपड़े पहने और उन्होंने एक ही साड़ी में दो फंदे बनाकर एक साथ फांसी पर झूल गए। महिला की चूड़ियों में सुसाइट नोट फंसा हुआ था। उन्होंने अपनी इच्छा से आत्महत्या करने की बात लिखी है। दो पन्नों के सुसाइट नोट में मृतक तेजराम ने अपने छोटे भाई को अपने माता-पिता का ख्याल रखने के साथ ही पुलिस से भी हाथ जोड़कर निवेदन किया है कि वह परिजनों को किसी भी प्रकार से परेशान न करें। इसमें तेजराम ने अपनी बीमारी और उसके इलाज पर ज्यादा खर्च होने के कारण जान देने की पुष्टि की है। 
तेजराम ने सुसाइड नोट में इस बात का भी जिक्र किया है कि वह अकेला मरना चाहता था, लेकिन उसकी पत्नी ओमवती ने भी साथ में मरने की इच्छा जताई। उसका कहना था कि मैं किसके सहारे जिऊंगी। 
देवरी के खमरिया टोला गांव में 22 वर्षीय तेजराम केवट और पत्नी 20 वर्षीय ओमवती बाई को शुक्रवार घर के अंदर फांसी पर लटका देखा गया। इसके बाद यह जानकारी देवरी पुलिस को दी गई। देवरी थाना प्रभारी देवेंद्र पाल अपने टीम के साथ गांव पहुंचे। और दोनों के शव फांसी फंदे से उतार कर उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पोस्टमार्टम करवाने के बाद दोनों के शव परिजनों को सौंप दिए गए हैं। 
तीन दिन पहले ही रक्षाबंधन मनाकर मायके से ससुराल आई थी पत्नी : सिखावन निवासी मृतिका ओमवती केवट तीन दिन पहले ही रक्षाबंधन मनाने के बाद अपनी ससुराल खमरिया टोला आई थी। यह जानकारी देते हुए मृतिका के चाचा संतोष केवट ने बताया कि ओमवती और तेजराम की 29 अप्रैल 2018 को बड़े ही धूमधाम से शादी हुई थी। उनकी भतीजी शादी के बाद ससुराल में खुश थी। मुलायम केवट और उसके तीनों बेटे तेजराम, भूपेंद्र और संदीप मकान बनाने का काम करते हैं। तेजराम और भूपेंद्र जुड़वा भाई है। मिस्त्री के रूप में मिलने वाली राशि से ही परिवार का खर्च चलता है। चाचा राजू केवट ने बताया कि तेजराम का दाद-खाज की बीमारी थी, इसका इलाज भी चल रहा था।