बेंगलुरु। कर्नाटक में पिछले दिनों हुए राजनीतिक घटनाक्रम के बाद आखिरकार आज जदएस-कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है। एचडी कुमारस्वामी एक उपमुख्यमंत्री के साथ शपथ ग्रहण करेंगे। उनके शपथ ग्रहण में शामिल होने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और सीपीआईएम प्रमुख सीताराम येचुरे बेंगलुरु पहुंच चुके हैं।


यहां पहुंचने के बाद ममता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हम यहां कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में शामिल होने आए हैं। भविष्य में हम देश हित और उसकी रक्षा के लिए साथ मिलकर काम करेंगे। हम यहां क्षेत्रीय दलों को मजबूत करने के लिए आए हैं।


वहीं इनके अलावा एनसीपी प्रमुख शरद पवार और सपा प्रमुख अखिलेश यादव भी बेंगलुरु पहुंच चुके हैं।


वहीं शपथ से पहले कुमारस्वामी ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि घोषणा पत्र में किए गए सारे वादे पूरे किए जाएंगे। किसानों का भला करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।


शपथ ग्रहण को लेकर जेडीएस कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल है और कुमारस्वामी के समर्थक सुबह से ही उनके आवास के बाहर जुट गए और नाच गाना कर रहे हैं।


जानकारी के अनुसार कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण की तैयारियां हो चुकी हैं और राज्यपाल विजुभाई वाला उन्हें शपथ दिलवाएंगे। उनके साथ दलित नेता और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी. परमेश्वर उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे।

अब तक इस शपथ ग्रहण को थर्ड फ्रंड की कवायद में एक और कदम माना जा रहा था लेकिन तेलंगाना के मुख्मयंत्री के चंद्रशेखर राव इस शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हो रहे हैं। इसे थर्ड फ्रंट की कवायद के लिए झटका माना जा रहा है। खबरों के अनुसार मुख्यमंत्री के दफ्तर द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि केसीआर किसी अहम काम में व्यस्त हैं और इस वजह से शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हो पाएंगे।


शाम 4.30 होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में गैर-राजग दलों के कई नेता और मुख्यमंत्री शामिल होंगे। इस शपथ ग्रहण की खास बात यह भी होगी की मायावती और अखिलेश यादव पहली बार मंच साझा करेंगे।


अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव और पार्टी के प्रदेश प्रभारी केसी वेणुगोपाल ने बताया कि पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता रमेश कुमार विधानसभा के अध्यक्ष होंगे। विधानसभा उपाध्यक्ष जदएस से होंगे। गठबंधन सरकार में 22 मंत्री कांग्रेस के और 12 मंत्री जदएस के होंगे। उन्हें गुरुवार को होने वाले बहुमत परीक्षण के बाद शपथ दिलाई जाएगी। वहीं, कुमारस्वामी ने बताया कि मंत्रियों के विभाग बंटवारे पर गुरुवार को ही विचार-विमर्श किया जाएगा। इसके अलावा सरकार के सुचारू संचालन के लिए एक समन्वय समिति भी बनाई जाएगी।


बता दें कि कुमारस्वामी पिछले एक हफ्ते में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले दूसरे व्यक्ति होंगे। इससे पहले राज्यपाल ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येद्दयुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई थी। लेकिन विश्वास प्रस्ताव का सामना किए बगैर ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया था।


कई विपक्षी नेता करेंगे शिरकत


शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, बसपा सुप्रीमो मायावती, सपा प्रमुख अखिलेश यादव, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, राजद के तेजस्वी यादव, नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आदि शिरकत करेंगे। हालांकि, द्रमुक नेता एमके स्टालिन ने बेंगलुरु जाने का अपना कार्यक्रम रद कर दिया है। इसकी बजाय वह बुधवार को तमिलनाडु के तूतीकोरिन जाएंगे जहां नौ लोग पुलिस फायरिंग में मारे गए हैं।


शिवकुमार नहीं बन पाए उपमुख्यमंत्री


उपमुख्यमंत्री पद की दौड़ में कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार का नाम भी आगे था, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस पद के लिए जी. परमेश्वर के नाम को मंजूरी दी। बताते हैं कि जदएस प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा को उनके नाम पर आपत्ति थी क्योंकि गौड़ा परिवार और शिवकुमार दोनों ही वोक्कालिगा समुदाय से हैं और शिवकुमार को उनका कट्टर प्रतिद्वंदी माना जाता है। हालांकि, देवेगौड़ा ने इन खबरों को पूरी तरह गलत बताया है।