वाशिंगटन। आर्थिक मामलों के विभागीय सचिव सुभाष चंद्र गौर के अनुसार, आर्थिक वृद्धि और अर्थव्‍यवस्‍था को व्‍यापक बनाने के लिए भारत सरकार द्वारा बड़े बदलाव किए गए हैं।


भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था पर यूएस इंडिया स्‍ट्रैटजिक पार्टनरशिप फोरम द्वारा वाशिंगटन में आयोजित इवेंट में गर्ग ने कहा, जीएसटी को लागू करना ऐतिहासिक आर्थिक व राजनीतिक उपलब्‍धि है। उन्‍होंने जोर देकर कहा कि भारत में इस तरह के बड़े कदम तब उठाए गए जब वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था की गति धीमी थी।


अपनी मीटिंग्‍स के दौरान गर्ग ने डिजिटल युग की तकनीकों का जिक्र किया। गर्ग ने जानकारी दी कि भारत ने डिजिटल टेक्‍नोलॉजी का उपयोग और इस टेक्‍नोलॉजी के जरिए हर नागरिक से जुड़ते हुए पॉलिसी और कार्यक्रमों को अपनाना शुरू कर दिया है। इसमें आधार की भी महत्‍वपूर्ण भूमिका है।


मोबाइल डेटा एक्सेस के विस्तार का हवाला देते हुए, उन्होंने कहा- प्रति माह 11 गीगाबाइट मोबाइल डेटा खपत के साथ भारत अब दुनिया में मोबाइल डेटा का सबसे बड़ा उपभोक्ता है। उन्‍होंने कहा कि भारत डिजिटल टेक्‍नोलॉजी में निवेश कर रहा है और प्राइवेट सेक्‍टरों को इन तकनीकों अपनाने के लिए प्रोत्‍साहित कर रहा है।

गर्ग वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक और अन्य संबंधित बैठकों वाशिंगटन के आधिकारिक दौरे पर है। उनके साथ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गर्वनर उर्जित पटेल और अन्य वरिष्ठ अधिकारी हैं।