जबलपुर। क्राइम ब्रांच की टीम ने पवन दुबे हत्याकांड के संदिग्ध संजय मिश्रा के ग्वालियर स्थित घर पर दबीश दी, लेकिन वह घर पर नहीं मिला। घर पर उसकी पत्नी और मां मौजूद थीं। जिनसे पुलिस ने घंटों पूछताछ की। ग्वालियर में पुलिस के हाथ एक अहम सुराग लगा है। पुलिस ने ग्वालियर से एक युवक को हिरासत में लिया है। यह युवक रेत कारोबारी मृतक पवन और संजय मिश्रा दोनों का करीबी बताया जा रहा है।


ग्वालियर गई पुलिस की दो टीमों में से एक उस युवक को लेकर शहर लौट आई है। जबकि दूसरी टीम अब भी वहां डेरा डाले है। दूसरी ओर 72 घंटे की जांच के बाद पुलिस की थ्योरी पूरी तरह बदल गई है। अब तक जहां पुलिस हत्या का कारण प्रॉपर्टी और रुपयों के लेनदेन को मान रही थी। वहीं, अब वह अवैध संबंधों पर फोकस होकर जांच कर रही है। पुलिस को इस बात के पुख्ता सुराग भी मिले हैं।


वारदात के बारे में संजय की मां-पत्नी को नहीं मालूम-


संजय की पत्नी ने पूछताछ में बताया कि वह एक साल पहले ग्वारीघाट क्षेत्र में रहता था और उस वक्त वह भी जबलपुर गई थी और वह ग्वारीघाट स्थित घर में ही रुकी थी। वहीं, संजय की मां ने बताया कि वे लोग मूलतः उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं, लेकिन कई वर्षों से ग्वालियर में रह रहे हैं। दोनों ने पवन की हत्या के बारे में अनभिज्ञता जताई है।


रविवार को किया था फोन-


संजय के परिजन ने बताया कि उसने रविवार को फोन कर हालचाल पूछा था। इसके बाद उससे कोई बात नहीं हुई। उसका फोन भी स्विच ऑफ बता रहा है।


मोबाइल में मिले नंबरों के आधार पर तलाश-


पुलिस को आशंका है कि संजय शहर में ही कहीं छिपा है। जिस कारण शहर के आसपास के गांवों में भी उसकी तलाश की जा रही है। घटनास्थल पर जो मोबाइल मिला था उसमें मिले नंबरों के आधार पर तलाश की जा रही है। इसमें यह भी पता किया जा रहा है कि संजय के शहर के कितने रसूखदारों से संबंध थे। उन पर भी पुलिस की नजर बनी हुई है।


ढाई लाख का नहीं चला पता, कैमरे खराब-


मृतक पवन की एक्टिवा को पुलिस ने जब्त कर लिया है। जांच के दौरान उसकी डिक्की से ढाई लाख नहीं मिले। जबकि उसकी मां संध्या का कहना था कि उन्होंने खुद देखा था कि पवन ने रुपए डिक्की में रखे थे और कार खरीदने के लिए निकला था। यह भी आशंका है कि हत्या के बाद हत्यारे डिक्की में रखे रुपए निकालकर भाग गए होंगे। किसी अन्य के रुपए निकालने की आशंका भी जताई जा रही है। हत्यारों के बारे में पुख्ता सुराग तलाशने में जुटी पुलिस ने मंगलवार को दिनभर राजुल टाउनशिप में लगे कैमरों को खंगाला, लेकिन सभी खराब मिले।


मामले की जांच की जा रही है। शहर समेत अन्य कई शहरों में टीम भेजी गई है। ढाई लाख रुपए नहीं मिले है। संजय के मिलने के बाद ही जानकारी मिल सकेगी।


दीपक शुक्ला, एएसपी शहर