न्यूजीलैंड के साथ आॅकलैंड में खेले जा रहे दो टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले में इंग्लैंड की टीम पहली पारी में महज 58 रन पर ढ़ेर हो गई। ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी की जोड़ी ने फास्ट बॉलिंग का बेजोड़ नमूना पेश करते हुए इंग्लैंड की पूरी टीम को 20.4 ओवर में 58 रन के स्कोर पर ढ़ेर कर दिया। ट्रेंट बोल्ट ने 6 और टिम साउदी ने 4 शिकार किए। बोल्ट और साउदी की रफ्तार के आगे इंग्लिश खिलाड़ी लाचार नज़र आए। 


टेस्ट क्रिकेट में शर्मनाक रिकॉर्ड से बच गया इंग्लैंड

इंग्लैंड के 9 विकेट सिर्फ 23 रन पर गिर गए थे। ऐसे में उस पर टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम स्कोर पर आॅल आउट होने का खतरा मंडरा रहा था, लेकिन 10वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे क्रेग ओवरटन की 33 रनों की उपयोगी पारी ने इंग्लैंड को इस शर्मनाक रिकॉर्ड से बचा लिया। टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम स्कोर पर आॅल आउट होने का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम दर्ज है, जो उसने आॅकलैंड के मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ 25 मार्च, 1955 को बनाया था। तब न्यूजीलैंड की टीम इंग्लैंड के खिलाफ सिर्फ 27 ओवरों में सिमट गई थी। यह मैच की तीसरी पारी थी। 


इंग्लैंड के 5 बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल पाए

मैच में इंग्लैंड की शुरुआत बेहद खराब रही और ऐलिस्टर कुक को ट्रेंट बोल्ट ने 5 रन के स्कोर पर आउट कर इंग्लैंड को पहला झटका दे दिया। कप्तान जो रूट खाता खोले बिना बोल्ट की गेंद पर बोल्ड हो गए। डेविड मलान 2 के स्कोर पर बोल्ट के तीसरे शिकार बने। इंग्लैंड का स्कोर तब 16 रन था। इंग्लैंड को ओपनर स्टोनमैन और ऑलराउंडर बेन स्टोक्स से काफी उम्मीदें थीं। लेकिन साउथी ने स्टोनमैन को 11 के निजी स्कोर पर विकेटकीपर वॉल्टमैन के हाथों कैच कराया। बेन स्टोक्स को आउट कर बोल्ट ने अपना चौथा विकेट लिया। जॉनी बेयरस्टो खाता खोले बिना आउट हो गए। इंग्लैंड के कुल 5 बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल पाए।