नई दिल्ली उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर सीट से उपचुनाव जीतकर आए समाजवादी पार्टी के नवनिर्वाचित सांसदों ने शुक्रवार को लोकसभा में शपथ ग्रहण की. गोरखपुर और फूलपुर की सीट क्रमश: सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद खाली हो गई थी.


गोरखपुर से समाजवादी पार्टी के प्रवीण कुमार निषाद और फूलपुर से सपा के ही नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल विजयी हुए हैं. दोनों ही सांसदों ने शपथ लेने के बाद सदन में वरिष्ठ नेताओं का पैर छूकर आशीर्वाद लिया. दोनों नेताओं ने आगे की पक्तियों में बैठे केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली और राजनाथ सिंह, वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, सपा नेता मुलायम सिंह यादव और कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के पैर छूकर अभिवादन किया.


नवनिर्वाचित सांसदों समेत शुक्रवार को सपा नेता मुलायम सिंह यादव और पार्टी के सभी सांसद अपनी पार्टी की पहचान लाल टोपी पहनकर सदन में आये थे. दोनों ने ही सांसदों में हिन्दी में शपथ ग्रहण की.


सपा ने दर्ज की बड़ी जीत


उत्तर प्रदेश में सपा के दोनों सांसदों की जीत को राजनीतिक तौर पर काफी अहम माना जा रहा है, क्योंकि उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के गृहनगर में बीजेपी उम्मीदवारों को हराया है. गोरखपुर सीट पर तो करीब 30 साल से बीजेपी का कब्जा था और खुद योगी आदित्यनाथ 5 बार इस सीट से चुनाव जीत चुके हैं.


इसके अलावा उपचुनाव में जीत से सपा-बसपा के गठजोड़ पर भी मुहर लग गई है. चुनाव में बसपा ने अपना प्रत्याशी नहीं उतारा था और वोटिंग से कुछ दिन पहले ही सपा प्रत्याशी को समर्थन देने का ऐलान किया था. ऐसे में 2019 के लोकसभा चुनाव और आगामी यूपी चुनाव में भी सपा-बसपा गठजोड़ कर सकते हैं.


लोकसभा में अब सपा के 7 सांसद हो गए हैं. बीते लोकसभा चुनाव में मुलायम कुनबे के नेता ही जीतकर आए थे, लेकिन उपचुनाव में परिवार से बाहर के 2 नेता भी लोकसभा पहुंच गए हैं. वहीं राज्यसभा में समाजवादी पार्टी के 17 सांसद हैं.