जावित्रि का इस्तेमाल खाने में स्वाद और खूशबू बढ़ाने के लिए किया जाता है लेकिन औषधीय गुणों से भरपूर जावित्रि से कई हेल्थ प्रॉब्लम को भी दूर किया जा सकता है। प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, आयरन, कॉपर, मैग्नीशियम और एंटीऑक्सीडेंट के गुणों वाली जावित्री गठिया से लेकर दिल के रोगों को दूर करने में मददगार है। इसके अलावा इसका सेवन सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं में भी फायदेमंद होता है। आइए जानते है रोजाना जावित्री का सेवन करने से किन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

1. दिल के रोग

10 ग्राम जावित्री, 10 ग्राम दालचीनी और 10 ग्राम अकरकरा मिलाकर रख लें। इसे रोजाना शहद के साथ खाने से आप दिल की बीमारियों से बचे रहते है।

2. दांतों में दर्द

दांतों में दर्द, मसूड़ों में सूजन और कैविटी को दूर करने के लिए जावित्री, माजूफल और कुटकी को पानी में उबाल लें। इससे दिन में 2 बार कुल्ली करने से आपकी दातों और मसूड़ों की समस्याएं दूर हो जाएगी।

3. गठिया रोग

रोजाना 2 ग्राम जावित्री में ½ टीस्पून सोंठ मिलाकर गर्म पानी से साथ लें। रोजाना इसका सेवन आपके गठिया रोग को हमेशा के लिए दूर कर देगा।

4. पाचन तंत्र

कब्ज, उल्टी, दस्त और गैस की समस्याओं को दूर करने के लिए थोड़ी सी जावित्री का गर्म पानी के साथ सेवन करें। इससे कुछ मिनटों में ही आपकी परेशानी दूर हो जाएगी।

5. कील-मुंहासे

जावित्री और दालचीनी को पीसकर उसमें शहद मिक्स करके चेहरे पर लगाएं। 15-20 मिनट लगाने के बाद इसे ठंडे पानी से साफ कर लें। हफ्ते में 2 बार इसे लगाने से आपकी कील मुंहासों की समस्या दूर हो जाएगी।

6. सर्दी-खांसी

सर्दी-खांसी, जुकाम, फ्लू को दूर करने के लिए जावित्री को पीसकर शहद में मिलाने के बाद गर्म पानी के साथ खाएं। इसका सेवन अस्थमा रोगियों के लिए भी फायदेमंद होता है।