उत्तर प्रदेश के बागपत के कोतवाली क्षेत्र में कुछ अज्ञात लोगों ने चलती ट्रेन में तीन मौलवियों की पिटाई कर दी. बुधवार की रात दिल्ली से तीन मौलवी पैसेंजर ट्रेन से अपने गांव बागपत लौट रहे थे. पुलिस ने पीड़ित पक्ष की तहरीर पर छह अज्ञात हमलावरों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

 

पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश सिंह ने बताया कि बुधवार की रात दिल्ली से तीन मौलवी पैसेंजर ट्रेन से अपने गांव बागपत लौट रहे थे. ट्रेन में उनका किसी बात पर कुछ युवकों से विवाद हो गया. आरोपी युवकों ने तीनों मौलवियों पिटाई कर दी. बागपत में अम्हैड़ा स्टेशन पर उतर कर पीड़ित पक्ष द्वारा हंगामा किया गया.

 

कोतवाली प्रभारी डी कुमार ने पीड़ित पक्ष द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर बताया कि बागपत निवासी गुलजार, इसरार और अब्बू दिल्ली से पैसेंजर ट्रेन में सवार हुए थे. रास्ते में इनका ट्रेन में सवार कुछ युवकों से झगड़ा हुआ. बुधवार की रात करीब पौने एक बजे बागपत थाना पुलिस में उन्होंने घटना के संबंध में तहरीर दी.

 

उन्होंने बताया कि तहरीर के आधार पर पांच—छह अज्ञात युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. यह मामला रेलवे पुलिस क्षेत्र का है, इसलिए मुकदमा बागपत रेलवे पुलिस को ट्रांसफर किया जा रहा है. जीआरपी ने बताया कि उन्हें गुरुवार की सुबह घटना की जानकारी मिली है. इसके बाद घटना की जांच की जा रही है.

 

बताते चलें कि बीते 22 जून को भी बल्लभगढ़ में ट्रेन में सीट की खातिर एक युवक की हत्या कर दी गई थी. हालांकि, पहले ये कहा गया कि वह बीफ लेकर जा रहा था, इसलिए भीड़ ने उसे मार दिया. इसकी जांच के बाद पता चला कि खांडवली गांव निवासी जुनैद की हत्या सीट को लेकर हुई है. जुनैद के भाइयों को भी पीटा गया था.

 

जुनैद की इतनी पिटाई हुई थी कि उसकी मौत हो गई. वहीं उसका भाई और कई अन्य लोग घायल हुए थे. यह मामला पूरे देश में सुर्खियों में बना रहा था. इसको तूल पकड़ते देख पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था. मुख्य आरोपी को महाराष्ट्र के धुले से गिरफ्तार किया गया था. उसने जुर्म कबूल कर लिया था.