कर्नाटक के कलबुर्गी में रेलवे से जुड़ा एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है. यहां के वाडी स्टेशन पर ट्रेन का इलेक्ट्रिक इंजन ड्राइवर के बिना 13 किमी तक आगे बढ़ गया.

 

हैरान करने वाली बात तो यह कि ड्राइवर ने 20 मिनट तक बाइक से इंजन का पीछा किया और किसी बड़ी दुर्घटना होने से पहले ही इंजन को रोक दिया.

 

मराठी अखबार लोकमत के मुताबिक, चेन्नई की ओर से आने वाली मुंबई मेल एक्सप्रेस बोगियों सहित तीन बजे चेन्नई से वाडी स्टेशन पर पहुंची.

 

बता दें कि वाडी स्टेशन पर इलेक्ट्रिक लाइन खत्म होती है और यही से ट्रेनों में डीजल इंजन जोड़े जाते हैं. इसके बाद वाडी से सोलापुर तक डीजल इंजन चलते हैं.   

 

 वाडी पर मुंबई मेल एक्सप्रेस का इलेक्ट्री इंजन बदल पर डीजल इंजन लगाया जा रहा था. इसी दरमियान इंजन चालू छोड़ लोको पायलट इंजन से बाहर आ गया.

 

ड्राइवर के मुताबिक, इंजन कुछ देर बाद अपने आप आगे बढ़ गया. जिसे देखकर वे हैरान रह गए. इसके बाद वाडी स्टेशन के सभी आला अफसरों को इसकी तत्काल जानकारी दी गई.

 

तत्परता दिखाते हुए रेलवे अधिकारियों ने बिना ड्राइवर इंजन आगे बढ़ने की खबर बाकी स्टेशनों को भी दी. पटरियों को तत्काल खाली कराया गया. रूट पर चलने वाली ट्रेनों को भी रोक दिया गया.

 

इसके बाद वाडी स्टेशन मास्टर जेएन पॅरिस और ड्राइवर ने बाइक से इंजन का पीछा करना शुरू किया. करीब तीन बजकर 50 मिनट पर इंजन की गति अचानक कम हुई.

 

मौका पाते ही ड्राइवर इंजन में चढ़ गया और इसे रोकने में सफलता मिली. इस बारे में स्टेशन मास्टर जेएन परिस ने कहा कि यदि समय पर इंजन नहीं रुकता तो बड़ी दुर्घटना हो सकती थी. कई पैसेंजर ट्रेन इस रूट पर आने वाली थी. तकनीकी खराबी होने के कारण शायद इंजन आगे बढ़ा. इसकी जांच की जा रही है.