न्यूयॉर्क : अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रूस के पास उनके खिलाफ संवेदनशील सूचनाएं होने संबंधी मीडिया के दावों को ‘‘बेहूदा’’ बताकर उसे खारिज किया और कहा कि इसे संभवत: अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने लीक किया होगा और यदि उन्होंने एेसा किया है तो उनकी रेकार्ड पर यह ‘‘बड़ा धब्बा’’ होगा।

छह महीने में अपने पहले औपचारिक संवाददाता सम्मेलन में ट्रंप ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह कलंक होगा, यदि सूचना को सार्वजनिक किया जाता है। मैंने सूचना देखी है, मैंने सूचना उस बैठक के बाहर पढ़ी थी।’’ रूस के पास उनके खिलाफ संवेदनशील सूचनाएं होने संबंधी आरोपों के डोजियर, निर्वाचित राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘यह फर्जी खबर है। यह जाली दस्तावेज है। एेसा कभी नहीं हुआ।’’

उन्होंने यह माना कि डेमोक्रेटिक पार्टी के कंप्यूटरों को हैक करने में रूस और कुछ अन्य देशों का हाथ था।  अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने से महज नौ दिन पहले किए गए अपने बहु-प्रतिक्षित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक हैकिंग का सवाल है, मुझे लगता है यह रूस का काम है, लेकिन मुझे एेसा लगता है कि कुछ अन्य देशों ने भी हैकिंग की है।’’

ट्रंप ने कहा, ‘‘डीएनसी हैकिंग के लिए पूरी तरह खुला हुआ था। उन्होंने बहुत ही खराब तरीके से काम किया।’’ उन्होंने कहा कि रिपब्लिकन नेशनल कमेटी को हैक करने के प्रयास विफ रहे और ‘‘उन्हें सफलता नहीं मिली।’’