मध्य प्रदेश के कटनी जिले में हवाला कारोबार का खुलासा करने वाले पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी का तबादला किए जाने को लेकर आमजनों में पनपा गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक ओर मंगलवार को लोगों ने सड़कों पर उतरकर विरोध दर्ज कराया था, तो वहीं, बुधवार को बाजार बंद हैं.

पिछले दिनों कटनी में हुए लगभग 500 करोड़ रुपये के हवाला कारोबार का पुलिस की एसआईटी ने खुलासा किया था. इस मामले में एक गिरफ्तारी के साथ बड़ी मात्रा में दस्तावेज भी जब्त किए गए थे. पुलिस की बढ़ती जांच और कई प्रभावशाली लोगों पर आती आंच के बीच पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी का तबादला कर दिया गया.

स्थानीय लोगों ने मंगलवार को सड़कों पर उतरकर पुलिस अधीक्षक के तबादले का विरोध किया और सरकार की नीयत पर सवाल खड़े किए. उसी क्रम में बुधवार को को भी बाजार बंद हैं. इस बंद का व्यापक असर बना हुआ है.

लाईट एवं टेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सरावगी ने संवाददाताओं से कहा कि यह बंद किसी के आह्वान पर नहीं है, बल्कि खुद किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की बात करते हैं और जो अधिकारी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता है, उसे जांच के दौरान हटा दिया जाता है. इस बात से लोगों में गुस्सा है.

पुलिस अधीक्षक तिवारी के तबादले के पीछे कथित तौर पर राज्य सरकार के मंत्री संजय पाठक का नाम आ रहा है. इस पर पाठक ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा कि उनका इस तबादले से कोई लेना देना नहीं है, तबादला सामान्य प्रक्रिया है. उनके खिलाफ कुछ लोग साजिश रच रहे हैं.