नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी में सुलह की कोशिशों के बीच सपा दफ्तर में मुलायम सिंह यादव ने कहा कि हमारी पार्टी की एकता में बाधा नहीं पड़नी चाहिए. मुझे मालूम है कौन पार्टी को तोड़ने में लगा है. पार्टी की एकता के लिए पूरा समय दिया है.

मुलायम सिंह ने कहा कि मेरे पास जो कुछ भी था सब दे दिया. उन्होंने कहा बहुत संघर्ष के बाद समाजवादी पार्टी बनी है. उन्होंने कहा कि पार्टी के एक रहने का पूरा भरोसा है. उन्होंने कहा कि अब मेरे पास केवल आप (समर्थक) हैं. जनता पर मुझे पूरा भरोसा है.

मुलायम ने आगे कहा कि मैं नहीं पार्टी टूटे. उन्होंने कहा कि हम हर कीमत पर पार्टी की एकता बरकरार रखेंगे.
उल्लेखनीय है कि समाजवादी पार्टी में पिछले कुछ समय से विवाद चल रहा है. मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पार्टी के कुछ मुद्दों को लेकर विवाद हो गया. अखिलेश यादव के समर्थकों ने पार्टी का विशेष अधिवेशन बुलाकर अखिलेश को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया था और मुलायम सिंह यादव को संरक्षक की भूमिका दे दी गई थी, मुलायम सिंह दावा कर रहे हैं कि यह अधिवेशन अवैध है और वह अभी भी पार्टी के अध्यक्ष हैं.

मामला चुनाव के पहले होने की वजह से चुनाव आयोग आ गया है. दोनों ही खेमों ने पार्टी और चुनाव चिहन पर दावा किया है. चुनाव आयोग इस मामले को देख रहा है. जानकारों का मानना है कि यदि निर्णय जल्दी नहीं आया तो चुनाव चिह्न जब्त हो सकता है.