आगरा
हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस के AC कम्पार्टमेंट में एक ऐसी घटना सामने आई है जो कि हमें शर्मसार करने वाली है। यहां मानसिक तौर पर बीमार एक नाबालिग लड़की के कपड़े उतरवाए गए। इतना ही नहीं, लड़की के बाल भी कटवाए गए। उसपर एक बैग चोरी करने का आरोप है। लड़की के पिता के मुताबिक, उसको ब्रेन ट्यूमर था और वह हाल ही में इससे उबर सकी है। वह अभी मानसिक तौर पर बीमार है। लड़की के पिता दिहाड़ी मजूदर हैं।

लड़की के स्कूल सर्टिफिकेट के अनुसार, वह अभी महज 17 साल और 10 महीने की है। चोरी के आरोप में उसको लोकल मैजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर मंगलवार को जेल भेज दिया गया। लड़की के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने लड़की की उम्र एफआईआर में 19 साल दर्ज की है।

यह घटना आगरा जा रही ट्रेन में फिरोजाबाद और टुंडला के बीच ट्रेन के एसी-3 टियर कंपार्टमेंट में हुई। लड़की के पिता के मुताबिक, उसका सैफई अस्पताल में पिछले साल से ब्रेन ट्यूमर का ​इलाज चल रहा है। लड़की एक मेले में जाने की इच्छुक थी और उसके लिए अपने पिता से 100 रुपये मांगे। लेकिन दिहाड़ी मजदूर होने की वजह से पिता ने पैसे दे पाने में असमर्थता जताई।

आगरा फोर्ट के स्टेशन आॅफिसर ललित त्यागी के मुताबिक, पैसेंजर्स ने लड़की के खिलाफ चोरी की शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा,'लड़की को एक बैग के साथ पकड़ा गया है लेकिन पैसेंजर्स ने कानून को अपने हाथ में लिया और उसके बाल काट दिए। उन्होंने टीटीई से भी बदसलूकी की, जो कि लड़की की मदद के लिए आगे आया था।'

जीआरपी ने इस मामले में दो एफआईआर दर्ज की हैं। पहली एफआईआर लड़की के खिलाफ पैसेंजर्स की शिकायत को लेकर दर्ज की गई है जबकि दूसरी एफआईआर टीटीई ने 6 अज्ञात पैसेंजर्स के खिलाफ दर्ज कराई है। लड़की के खिलाफ आईपीसी की धारा 380 के तहत और पैसेंजर्स के खिलाफ धारा 332, 352, 353 और 507 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

हमारे सहयोगी टाइम्स आॅफ इंडिया से बात करते हुए टीटीई एसके शर्मा ने कहा,'पैसेंंजर्स ने मुझे गालियां दीं। जब मैंने लड़की को जीआरपी को सौंपने की बात कही तो उन्होंने मुझपर भी चोरी की साजिश में साथ होने का आरोप लगा दिया। उन्होंने जिस तरह से गरीब बच्ची पर जुल्म ढाया, वह शर्मसार करने वाला है।'