मध्य प्रदेश के कटनी में एक्सिस बैंक के फर्जी खातों से 500 करोड़ रुपए के हवाला कारोबार मामले में एसआईटी ने संदीप बर्मन और संजय तिवारी नाम के दो युवकों को हिरासत में लिया है. दोनों कोयला कारोबारी सतीश सरावगी और मनीष सरावगी के कर्मचारी रहे हैं.

संदीप के नाम से एक्सिस बैंक में शिव आराधना ट्रेडर्स नाम की कंपनी से 8 करोड़ का और संजय तिवारी की रामा ट्रेडर्स कंपनी से लाखों का लेन-देन हुआ है. दोनों को हिरासत में लेने के बाद सरावगी बंधु भूमिगत हो गए हैं.

उल्लेखनीय है कि एक्सिस बैंक में आईटी के छापे के बाद तकरीबन 35 बोगस कंपनियों के नाम से 500 करोड़ के हवाला कारोबार का सनसनीखेज खुलासा हुआ था. इतने बड़े घोटाले का खुलासा होने के बाद प्रवर्तन निदेशालय भी मामले की जांच कर रही है.

हिरासत में लिए गए सतीश सरावगी के कैशियर रहे संजय तिवारी का कहना है कि वो महज 5 हजार रुपये मासिक पर काम करता था. एक्सिस बैंक में रामा ट्रेडर्स की फर्म का संचालक कब बन गया उसे इस बात की जानकारी नहीं है.

संजय का ये भी आरोप है कि इनकम टैक्स से जो भी नोटिस आता था. सतीश सरावगी उसे अपने ऑफिस में रिसीव कर लेता था. वहीं, दूसरी ओर रिमांड पर लिए गए संदीप बर्मन से कटनी पुलिस की एसआईटी जांच कर रही है.

पूरे मामले में एसपी गौरव तिवारी का कहना है कि संदीप बर्मन शिव आराधना ट्रेडर्स का संचालक है. इसकी कंपनी से पहले ही जांच के घेरे में आई एसके मिनरल्स कंपनी को 8 करोड़ का ट्रांजेक्शन हुआ है.