नोटबंदी के खिलाफ केंद्र सरकार द्वारा नोटबंदी किए जाने से आम आदमी को हो रही परेशानियों का ध्यान दिलाने के लिए मध्यप्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया.

भोपाल में पुलिस से कांग्रेस कार्यकर्ताओं की धक्कामुक्की हुई, वहीं उज्जैन में पुलिस ने लाठियां भांजीं. कांग्रेस ने जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया और जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव करने की कोशिश की. साथ ही संबंधित अधिकारियों को ज्ञापन सौंपे.

राजधानी भोपाल में आयोजित प्रदर्शन में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव, सचिव राकेश कालिया, पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री सुरेश पचौरी, दिल्ली के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली, प्रभारी प्रत्यूष शर्मा और महिला कांग्रेस की अध्यक्ष मांडवी चौहान सहित कई वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने हिस्सा लिया. यहां जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं व पुलिस में धक्कामुक्की भी हुई.

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अरुण यादव ने कहा कि नोटबंदी से सबसे ज्यादा गरीब आदमी परेशान हुआ है, युवाओं को रोजगार मिलने की बजाय उनके रोजगार छीने जा रहे हैं, जिससे उनका जनजीवन प्रभावित हुआ है.

कांग्रेस के सचिव राकेश कालिया ने कहा कि सरकार को उद्योगपति मित्रों की ज्यादा चिंता है, आम आदमी की नहीं. प्रधानमंत्री काले धन पर चुप्पी साधे बैठे हैं, नोटबंदी से देश के बड़े उद्योगपतियों के करोड़ों रुपये माफ किए जा रहे हैं और जनता को लाइन में खड़ा किया जा रहा है.

पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री सुरेश पचौरी ने नोटबंदी को देश की गरीब, किसान, मजदूर, दुकानदारों, मध्यम तथा छोटे कारोबारियों पर एक सर्जिकल स्ट्राईक बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने एक प्रतिशत कालाधन धारकों को पकड़ने के लिए 99 फीसदी देशवासियां पर मुसीबत का पहाड़ तोड़ दिया है, जिससे पूरे देश में आर्थिक अराजकता छा गई है.

वहीं दिल्ली के पूर्व मंत्री लवली ने कहा कि तुगलकी आदेश जारी करने वाली यह सरकार गरीबों की नहीं, बल्कि बड़े उद्योगपतियों की सरकार है.

उज्जैन में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प भी हुई. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर जमकर लाठियां बरसाईं. यहां कांग्रेस कार्यकर्ता बेरीकेड गिराकर जिलाधिकारी कार्यालय में दाखिल होना चाहते थे, पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश. इससे पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए.

इसी तरह राज्य के अन्य जिला मुख्यालयों पर भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर जिलाधिकारी कार्यालयों के घेराव का प्रयास किया और वहां मौजूद अफसरों को ज्ञापन भी सौंपा.