आर्मी ने जवानों की भर्ती नीति में बदलाव कर दिया है. यह बदलाव तीन साल पहले मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुए उपद्रव के बाद किया गया है.

अब सेना में भर्ती होने वाले युवकों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होगा. इसके बाद उन्हें डेट व समय मिल जाएगा. यही नहीं इस बार ग्वालियर की बजाय सेना ने सागर में फिजिकल टेस्ट के लिए युवकों को बुलाया है, जहां 14 जनवरी से 25 जनवरी तक भर्ती परीक्षा आयोजित की जाएगी.

फिजिकल टेस्ट में मध्य प्रदेश के 13 जिलों के 72 हजार से अधिक अभ्यार्थी शामिल हो रहे हैं. साथ ही भर्ती प्रक्रिया पर सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाएगी.

दरअसल, तीन साल पहले ग्वालियर और छतरपुर में सेना भर्ती रैली में आए युवकों ने जमकर उपद्रव मचाया था. युवकों ने बसों और वाहनों में आग लगा दी. कई मकानों में तोड़फोड़ की गई.

यह उपद्रव उपद्रव इसलिए हुआ, क्योंकि अफवाह फैली कि भर्ती निरस्त कर दी गई है और एक युवक भर्ती के दौरान घायल हो गया है.

उल्लेखनीय है कि सेना मध्यप्रदेश में अब तक तीन बार सेना की भर्ती को स्थागित कर चुकी है. जिसमें सेना के अधिकारी मानते है कि मुरैना ओर भिंड जिले के युवक उत्पाद करते है. इसलिए कोई भी जिला सेना की भर्ती नहीं करवाने को तैयार रहता है. इस भर्ती का भी कोटा मध्यप्रदेश से लेप्स होकर किसी दूसरे जिले को दी जाने वाली था, लेकिन सरकार ने ऐनवक्त पर सहयोग का भरोसा दिया, जिसके कारण ये भर्ती सागर में हो पा रही है.