रायपुर : छत्तीसगढ़ में हुए नगरीय निकाय के चुनावों में सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी ने जीत हासिल कर ली। नोटबंदी के बाद हुए चुनाव में सफलता से पार्टी के नेता उत्साहित हैं।   राज्य निर्वाचन आयोग के अधिकारियों ने बताया कि छत्तीसगढ़ में नवनिर्मित नगरपालिक निगम भिलाई चरौदा तथा नगरपालिका परिषद सारंगढ़ के लिए हुए चुनाव में भाजपा ने जीत हासिल कर ली है।
 

भिलाई चरौदा नगरपालिक निगम के चुनाव में भाजपा की चंद्रकांता मांडले चुनाव जीत गई है। मांडले ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस की ज्योति बंजारे को 4922 मतों से पराजित किया है। इस चुनाव में मांडले को 27 हजार 184 मत तथा बंजारे को 22 हजार 262 मत प्राप्त हुआ है। अधिकारियों ने बताया कि रायगढ़ जिले के सारंगढ़ नगरपालिका परिषद के लिए हुए चुनाव में भाजपा के अमित अग्रवाल ने कांग्रेस के सूरज तिवारी को 1096 मतों से हराया है।

इस चुनाव में अमित को 6221 मत तथा सूरज को 5125 मत मिले। उन्होंने बताया कि भिलाई चरौदा नगर निकाय के 40 वार्डों में से 16 वार्डों में भाजपा के उम्मीदवार जीते हैं जबकि कांग्रेस के 13 उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है। यहां के 11 वार्डों में निर्दलीय उम्मीदवार भी जीते हैं। इसके अलावा राज्य के अलग अलग नगरीय निकायों के वार्डों के लिए हुए उपचुनाव में चार स्थानों पर भाजपा तथा दो वार्ड में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। इस महीने की 27 तारीख को नगरीय निकायों के लिए मतदान हुआ था।

राज्य में हुए नगरीय निकायों के चुनाव में जीत हासिल करने के बाद भाजपा नेता उत्साहित हैं। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक कहते हैं कि इस जीत ने साबित कर दिया है कि देश की जनता नोटबंदी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हैं। कौशिक कहते हैं कि नगरीय निकायों के चुनाव में भाजपा की जीत के बाद यह तय हो गया है कि भाजपा राज्य में वर्ष 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव में चौथी बार सरकार बना रही है।

छत्तीसगढ़ में वर्ष 2014-15 में हुए नगरीय निकायों के चुनावों में भाजपा को खास सफलता नहीं मिली थी। लेकिन नोटबंदी के 50वें दिन इस बार के नतीजों ने भाजपा नेताओं को खुश होने का मौका दे दिया है। वर्ष 2014-15 के नगरीय निकाय चुनाव में 10 में चार स्थानों पर सत्ताधारी भाजपा को तथा चार स्थानों पर कांग्रेस को जीत हासिल हुई थी, जबकि दो स्थानों पर निर्दलीय प्रत्याशी जीते थे।