महासमुंद में छत्तीसगढ़ गाड़ीवान हमाल रेजा मजदूर संघ और प्रशासन के बच बीच चल रही लड़ाई ने अब सियासी रंग ले लिया है. कई राजनैतिक पार्टियां मजदूरों के समर्थन में उतर चुकी हैं. इन्हीं में से एक कांग्रेस पार्टी है.

मगर कांग्रेस का एक नेता नाम भुनाने के लिए इनके लिए गिरफ्तार तो हुआ, लेकिन डर के मारे थाने से भाग निकला. पार्टी इस पर कार्रवाई का मन बना रही है. बागबाहरा ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अंकित बागबाहरा को बीती रात बागबाहरा पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

वह एफसीआई गोदाम के पास से गिरफ्तार किए गए उन 110 कांग्रेस कार्यकर्ताओं और मजदूरों में शामिल था जो प्रदर्शन कर रहे थे. कहा जा रहा है कि अंकित बागबाहरा गिरफ्तारी देने के बाद जेल की दिवार से कूदकर फरार हो गया है.

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के इस कारनामें को जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अमरजीत चावला ने शर्मनाक बताते हुए कहा कि अध्यक्ष की इस करतूत से पार्टी की छवि धूमिल भले ही हुई है लेकिन पार्टी अभी भी मजदूरों के साथ है. पूरे मामले के बारे में पीसीसी अध्यक्ष को अवगत कराने की बात भी कही.

साथ ही कांग्रेस के लोग बागबाहरा और महासमुंद से गिरफ्तार सभी मजदूरों और कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग को लेकर जिला जेल परिसर के बाहर धरने पर बैठ गए हैं. वहीं पुलिस इस मामले में कांग्रेस नेता अंकित बागबाहरा पर धारा 224 के तहत मामला दर्ज करते हुए जल्द गिरफ्तारी करने की बात कह रही है.