मध्य प्रदेश में कड़ाके की ठंड ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है. प्रदेश में शीतलहर के चलते पारा लगातार नीचे जा रहा है.

प्रदेश के मंडला जिले में कान्हा नेशनल पार्क का कान्हा जोन प्रदेश में सबसे ठंडा रहा. यहां सोमवार को न्यूनतम तापमान 1.2 दर्ज किया गया है.

वहीं, कान्हा के किसली, सरही मुक्की रेंज का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस के नीचे रहा है. कड़ाके की सर्दी के बाद भी कान्हा में पर्यटकों की संख्या लगातार बढ़ रही है. ठंड के कहर को देखते हुये पार्क प्रबंधन ने जंगल के अंदर तैनात कर्मचारियों के लिये विशेष इंतज़ाम किये हैं.

प्रदेश में राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई अन्य हिस्सों में सोमवार को उत्तरी हवाओं का प्रभाव बढ़ने के कारण ठिठुरन बढ़ गई.

मौसम विभाग ने राज्य के कई स्थानों पर शीतलहर का असर बढ़ने की संभावना जताई है. राज्य में सोमवार की सुबह ठिठुरन भरी रही. हवाओं में घुली ठंडक के बीच खिली धूप ने राहत दिलाई.

मौसम विभाग के मुताबिक, उत्तर भारत की ओर से आ रही सर्द हवाओं ने ठंड बढ़ा दी है, साथ ही तापमान में भी गिरावट आई है. राज्य के अधिकांश हिस्सों का न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस के नीचे पहुंच गया. राज्य में उमरिया, रीवा सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आगामी 24 घंटों में राज्य के उत्तरी हिस्से में कोहरा छाने के साथ रीवा, शहडोल, जबलपुर संभाग के अलावा छतरपुर, पन्ना, दमोह व बैतूल में शीतलहर का असर बढ़ सकता है.

राज्य में चल रही हवाओं ने सोमवार को सिहरन पैदा कर दी. सोमवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्री, इंदौर का 9.1 डिग्री, ग्वालियर का 7.4 डिग्री और जबलपुर का नौ डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

इससे पहले रविवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 24 डिग्री, इंदौर का 25 डिग्री, ग्वालियर का 25.8 डिग्री और जबलपुर का 24.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.