कौआ कर्कशता के लिए जगत प्रसिद्ध है। कुछ लोग तो इसे अपशगुन का प्रतिक भी मानते हैं। शगुन शास्त्र के अनुसार शनिदेव का वाहन और यमराज का दूत भविष्यवाणी भी करता है, आईए जानें क्या कहते हैं कौआ के लक्षण विचार


*  घर की मुंडेर पर एक या अधिक कौए बैठकर कांव-कांव करें तो समझना चाहिए घर में अतिथियों का आगमन होने वाला है।


*  किसी पानी भरे हुए बर्तन में कौए स्नान करते हुए दिखाई दें तो यह समझ लेना चाहिए कि लक्ष्मी की कृपा होने वाली है।


* जिस घर में कौए दाना खाते-पीते हों वहां किसी प्रकार की कमी नहीं रहती और अगर तेल के बर्तन में कौआ चोंच मारे तो उस घर से संकट दूर होने वाले हैं।


*  अगर स्वप्र में कौआ घर की मुंडेर पर बैठा हुआ दिखाई दे तो उसका फल अत्यंत शुभ होता है।


*  अगर स्वप्र में किसी स्थान पर दावत होती हुई दिखाई दे और वहीं पर कोई कौआ बोलता दिखाई दे तब दावत का आयोजन होता है।


*  अगर रात्रि में 2 से 4 बजे के बीच स्वप्र में कौआ बैठा हुआ दिखाई दे तो शीघ्र तरक्की मिलती है।


*  अगर स्वप्र में कौआ दूध पीता हुआ दिखाई दे तो घर में पुत्र का जन्म होता है।


*  अगर स्वप्न में कौआ आभूषण लेकर उड़ता हुआ दिखाई दे तो कहीं से अचानक धन की प्राप्ति होती है।


*  अगर स्वप्र में कोई कौआ जाल से छूटता हुआ दिखाई दे तो मुकद्दमे में सफलता मिलती है।


*  अगर कोई व्यक्ति स्वप्न में कौए को आकाश से धरती पर गिरता हुआ देखे तो उसे धन की प्राप्ति होती है। 


*  अगर स्वप्र में कौए का छोटा बच्चा अपने घोंसले में से सिर बाहर निकाल कर कांव-कांव करता हुआ दिखाई दे तो उस व्यक्ति को सुख की प्राप्ति होती है।


* यदि रविवार के दिन कोई कौआ किसी तालाब में गिरकर मर जाए तो उस वर्ष वर्षा कम होगी और अगर वर्षा के साथ ओले गिरें और कौए ओलों को अपनी चोंच से उठाकर घोंसलों की ओर भागें तो वस्तुएं काफी महंगी हो जाएंगी।