बिहार के हर जिले में प्रत्येक छोटे-बड़े घाटों पर सूर्य को अर्घ्य देने के लिए भारी भीड़ जुटी। वैशाली जिले के महुआ में वाया नदी के तट पर उगते आदित्य को अर्घ्य देने के लिए व्रती महिलायें पहुंची। रोहतास जिले के विभिन्न घाटों पर छठ व्रतियों में उदयीमान सूर्य को अर्घ्य दिया। अर्घ्य देने के बाद व्रतियों ने पूजा की और फिर प्रसाद ग्रहण कर व्रत को तोड़ा। अर्घ्य देने के बाद घाट पर प्रसाद लेने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी।

 

चलते राह में भी लोग प्रसाद के लिए व्रतियों को घेर रहे थे। घाट से लेकर घर पहुंचने तक रास्ते में जिसने भी मां का प्रसाद मांगा ब्रती देते हुए आगे की ओर बढ़ते गए। पूजा कमेटी के लोग भी ध्वनि विस्तारक यंत्र से प्रसाद की मांग कर रहे थे।

 

अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के दौरान घाटों पर जितनी भीड़ देखी गई, उतनी भीड़ उदयीमान सूर्य को अर्घ देने के दौरान नहीं थी। समझा जाता है कि भोर में बढ़ी ठंड के कारण बच्चों की टोली कम पहुंची। कुछ महिलाएं घरों में व्रतियों के लिए पकवान बनाने में जुट गई। इसलिए घाटों पर भीड़ कम रही।