घर में सामान रखते समय दिशाअों का ध्यान रखा जाए तो जीवन खुशहाल रहता है। घर में वस्तुएं दिशा के अनुसार न रखी हों तो वास्तुदोष होने से सुख-समृद्धि में बाधाएं आती हैं। यदि ऐसा हो तो कुछ सरल उपाय करके इन दोषों को दूर किया जा सकता है। वास्तु अनुसार दिशा से संबंधित कुछ उपाय करने से सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। 

 

* दस्तावेजों को सदैव उत्तर पूर्व में रखने से कार्य शीघ्र सफल होते हैं। कोर्ट कचहरी के मामलों के लिए ये उपाय बहुत शुभ है। 

 

* घर में मंदिर दक्षिण-पूर्व दिशा में होना चाहिए। इस दिशा में मंदिर होने से मान-सम्मान में वृद्धि होती है। ऐसा न होने पर मंदिर में तांबे के लोटे में जल भर कर रखना चाहिए। 

 

* तिजोरी को उत्तर या दक्षिण दिशा में रखने से उसमें रखे धन में वृद्धि होगी। 

 

* घर की पूर्व-उत्तर दिशा में कोई भारी वस्तु नहीं रखनी चाहिए। इस दिशा को खाली रखना चाहिए। भरी वस्तुएं रखनी हो तो दक्षिण-पश्चिम दिशा में रख लेनी चाहिए। 

 

* भोजन कक्ष घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में होने से स्वास्थ्य ठीक रहता है। यदि ऐसा नहीं है तो भोजन दक्ष में दर्पण लगाने से वास्तुदोष खत्म हो जाता है। 

 

* घर की पूर्व-उत्तर दिशा में घड़ी लगाने से बुरा समय टलने की संभावना बनती है अौर नए अवसर मिलते हैं।

 

* शयन कक्ष घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना अच्छा होता है। इस दिशा में शयन कक्ष न होने पर वहां लाल रंग का कोई चित्र या शो-पिस रख सकते हैं। 

 

* घर में स्नानघर दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। ऐसा न होने पर स्नानघर में नमक से भरा कटोरा रखने से लाभ प्राप्त होता है।

 

* घर में बैठक व्यवस्था कमरे की उत्तर-पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा में करने से घर में सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है। 

 

* घर की दक्षिण-पूर्व दिशा में रसोईघर बनाने से भाग्य में वृद्धि होती है। ऐसा न होने पर रसोईघर में क्रिस्टल अवश्य लटकाएं।