चंबा: मिनी अमरनाथ यात्रा से मशहूर मणिमहेश कैलाश की यात्रा हिमाचल में शुरू हो गई है। श्रद्धालु मणिमहेश सरोवर में स्नान के लिए 13,500 फीट की ऊंचाई पर पहुंच रहे हैं। बता दें कि मणिमहेश हिमाचल के चंबा जिले में है। 


शिव की मणि से चमक उठता है सरोवर
जानकारी के मुताबिक लोगों का मानना है कि मणिमहेश में भगवान शिव की चमकती हुई मणि को लोग देख पाते हैं। मणिमहेश सरोवर के पास सुबह में होने वाले इस चमत्कारिक नीलिमा को ही लोग भगवान शिव की मणि समझते हैं। श्रद्धालुओं का मानना है कि महादेव की मणि से ही यहां का रंग बदल जाता है। इतना ही नहीं मणिमहेश सरोवर से पूर्व की ओर ही प्रसिद्ध कैलाश पर्वत है, जिसकी ऊंचाई करीब 18,564 फीट है। यहां सूरज उगने से पहले आसमान में नीलिमा छा जाती है। सूर्य के प्रकाश की किरणें नीले रंग में निकलती है, जिससे चारों ओर नीला दिखाई पड़ता है। 


राधाष्टमी तक चलेगी यात्रा
बताया जा रहा है कि इस साल पवित्र मणिमहेश यात्रा 12 सितंबर तक चलेगी। हालांकि 24 अगस्त को पहला जत्था चंबा के भरमौर से रवाना हुआ था। भरमौर से 25 किमी पैदल चलकर ही श्रद्धालु मणिमहेश सरोवर तक पहुंचते हैं। यहां हेलीकॉप्टर से पहुंचने के लिए एक तरफ का किराया 2010 रुपए रखा गया है।


ऐसे शुरू हुई थी मणिमहेश यात्रा
बता दें कि यहां के राजा साहिल वर्मा ने अपनी बेटी के नाम पर चंबा शहर को बसाया था। उसी समय चरमपटनाथ नाम के एक शिवभक्त हुए थे। चरपटनाथ के सलाह पर साहिल वर्मा ने मणिमहेश-कैलाश की यात्रा शुरू की थी।